प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को घेरा, पीपीई किट घोटाले पर कांग्रेस का प्रदर्शन

Smart News Team, Last updated: Sun, 13th Sep 2020, 12:26 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में सामने आए पीपीई किट घोटाले पर कांग्रेसी नेता प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला किया. प्रियंका गांधी ने कहा, आपदा के समय आम जनता के लिए बनी योजनाओं में, भत्तों में कटौती करने वाली भाजपा सरकार घोटाले करने में सरपट भाग रही है.
लखनऊ में पीपीई किट घोटाले को लेकर प्रदर्शन करते कांग्रेसियों को हिरासत में लेती यूपी पुलिस

लखनऊ: कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश में कोरना वायरस किट घोटाले को लेकर योगी सरकार पर हमला बोला है. प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा, यूपी के लगभग सभी जिलों में कोरोना किट घोटाला हुआ है. कोरोना आपदा के समय जब लाखों लोगों की रोजी-रोटी पर खतरा है उस समय प्रदेश सरकार के अफसरों ने करोड़ों का वारा-न्यारा कर दिया. सवाल ये है कि क्या प्रदेश सरकार की रुचि हर बार घोटालेबाजों को बचाने की ही होती है?

प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन का वीडियो भी ट्वीट किया. प्रियंका गांधी ने वीडियो ट्वीट करते हुए कहा, आपदा के समय आम जनता के लिए बनी योजनाओं में, भत्तों में कटौती करने वाली भाजपा सरकार घोटाले करने में सरपट भाग रही है. नतीजा है कि आज यूपी के लगभग हर जिले में कोरोना किट घोटाले का आरोप लग रहा है. यूपी कांग्रेस ने प्रदर्शन कर सरकार को चेतावनी दी कि घोटालेबाजों को बचाना बंद करे.

 

लखनऊ में शनिवार को कोरोना किट घोटाले को लेकर सैकड़ों कांग्रेसी कार्यकताओं ने सड़क पर निकलकर प्रदर्शन किया. प्रदर्शन में कई कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने पीपीई किट भी पहनी हुई थी. कांग्रेसी कार्यकर्ता पीपीई किट घोटाले में सीबीआई जांच की मांग कर रहे थे. प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच तीखी झड़प भी हुई. पुलिस ने कांग्रेस महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंह चौहान समेत कई कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

आपको बता दें इससे पहले आम आदमी पार्टी के नेता और सांसद संजय सिंह ने कहा था कि उत्तर प्रदेश में 300 से 400 गुना ज्यादा कीमत पर पीपीई किट खरीदी जा रही है. जिसके बाद इस घोटाले की जांच के लिए योगी सरकार ने एडिशनल चीफ सेक्रेटरी की अगुवाई में एसआईटी बनाई है. जिसे 15 दिन में जांच करके रिपोर्ट देनी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें