लखनऊ: गिरफ्तार हुआ फर्जी रेल टिकट दलाल निकला कोरोना पॉजिटिव, पुलिस टीम क्वारंटीन

Smart News Team, Last updated: Tue, 18th Aug 2020, 6:39 PM IST
पूर्वोत्तर रेलवे सीआईबी ने लखनऊ में फर्जी रेल टिकट बनाने वाले को गिरफ्तार किया है. आरोप है कि वह टिकट बुक करने के लिए सॉफ्टवेर भी बेचता था.
लखनऊ से रेलवे सीआईबी ने फर्जी टिकट दलाल को गिरफ्तार किया.

लखनऊ. लखनऊ के मोहिबुल्लापुर से पूर्वोत्तर रेलवे सीआईबी ने निखिल नाम के एक टिकट दलाल को गिरफ्तार किया. निखिल की निशानदेही पर सीआईबी ने 15 अगस्त की शाम रेलवे टिकट दलाली में दो नए सॉफ्टवेयर बनाने का इस्तेमाल करने वाले सत्यम को गिरफ्तार किया है. सत्यम की गिरफ्तारी लखनऊ के नाका चौराहे से की गई. गिरफ्तारी के बाद सत्यम की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है. अब पकड़ने गई टीम को होम क्वारेंटाइन कर दिया गया है.

सत्यम लखनऊ में रहकर सॉफ्टवेयर के सेलर के रूप में काम कर रहा था. उसके साथ एक सुपर सेलर भी था जो बिहार का रहने वाला है. इस मामले का संज्ञान लेते हुए रेलवे बोर्ड ने भी एक टीम गठित की है.

सीआईबी इंस्पेक्टर ने बताया कि दलाल सत्यम मूल रूप से पारा का रहने का रहने वाला है. वह लखनऊ में रहकर रेड मैंगो और ब्लैक वोल्टी सॉफ्टवेयर बेचने का काम करता था. वह इससे टिकट बनाकर खुद भी रेल टिकट बेचता था.  

पत्रकार प्रशांत कनौजिया को लखनऊ की हजरतगंज पुलिस ने दिल्ली से किया गिरफ्तार

सत्यम सॉफ्टवेयर एक महीने में दो लोगों लोगों को देता और तीन हजार रुपए लेता था. इसी तरह तीन लोगों पर 3.5 हजार और चार लोगों के लिए चार हजार रुपए में देता था. इंस्पेक्टर ने बताया कि यह सॉफ्टवेयर दो, तीन और चार लोगों के टिकट आरक्षण के खुलते ही 10 सेकंड में बुक कर देता है. 

लखनऊ: स्कूल फीस माफी को लेकर सड़क पर उतरे वकील, विधानसभा जाने पर पुलिस ने रोका

पकड़े गया सत्यम के पास से अकेले जनवरी में कोलकाता के दलाल के साथ मिलकर तीन लाख से ज्यादा टिकट बुक करने के सबूत मिले हैं। साथ ही सीआईबी को मुंबई, मालेगांव और दिल्ली समेत कई बड़े शहरों से कुल 18 और दलालों के रिकॉर्ड भी मिले हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें