स्काईवॉक, वन सिटी से सजेगा लखनऊ, स्मार्ट सिटी बनाने के लिए 152 करोड़ होंगे खर्च

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 8:48 AM IST
  • लखनऊ में कमिश्नर की अध्यक्षता में स्मार्ट सिटी की 15वीं बोर्ड बैठक सोमवार को हुई. बैठक में नई परियोजनाओं का प्रस्तुतीकरण दिया गया जिसमें स्काईवॉक, स्मार्ट स्कूल, एसटीपी, पंपिंग स्टेशन और वन सिटी, वन मैप नई परियोजनाएं प्रस्ताव में रखी गईं. बैठक में बताया गया कि इन परियोजनाओं पर 152 करोड़ खर्च होंगे.
लखनऊ स्मार्ट सिटी के लिए 152 करोड़ होंगे खर्च

लखनऊ. सोमवार को कमिश्नर रंजन कुमार की अध्यक्षता में स्मार्ट सिटी की 15वीं बोर्ड बैठक हुई और इस बैठक में नई परियोजनाओं का प्रस्तुतीकरण दिया गया. जिसमें बताया गया शहर को स्मार्ट बनाने के लिए इन नई परियोजनाओं पर 152 करोड़ खर्च होंगे. इसके साथ ही कमिश्नर रंजन कुमार ने शहर में मौजूदा समय में चल रही परियोजनाओं के बारे में चर्चा की. वहीं पिछली बैठक में जिन परियोजनाओं पर मुहर लगी थी उनके बारे में भी कमिश्नर ने जानकारी ली. इसके साथ ही कमिश्नर ने स्मार्ट रोड, ब्रेल क्लासेज और अमीरुद्दौला पुस्तकालय के डिजिटलीकरण के कार्यों के बारे में भी चर्चा की. वहीं इस दौरान डीएम अभिषेक प्रकाश ने इन परियोजनाओं की कार्य प्रगति में देरी होने पर नाराजगी जताई. इतना ही नहीं डीएम ने देरी पर कानूनी कार्रवाई का निर्देश दिया. इस बैठक में नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी, एलडीए उपाध्यक्ष अक्षय त्रिपाठी मौजूद रहे.

बता दें कि स्काईवॉक परियोजना के लिए अभी सिर्फ प्रस्ताव तैयार किया गया है. इतना ही नहीं वन सिटी वन मैप पहले एलडीए की बोर्ड बैठक में रखा गया था. यह अच्छी परियोजना है इसलिए कमिश्नर ने इसे स्मार्ट सिटी के तहत पूरे शहर में लागू करने का निर्णय लिया. शहर की जमीनों के बारे में पूरी जानकारी एक पोर्टल पर रहेगी और उसे एक आम आदमी भी देख सकता है.

यूपी के आईटीआई में जल्द होगी अनुदेशकों की भर्ती, 2500 युवाओं को मिलेगा रोजगार

शहर में बनने वाली स्मार्ट सिटी के तहत नई परियोजनाओं पर कुल 152 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे. इसमें एसटीपी निर्माण पर 42 करोड़, वन सिटी वन मैप पर 15 करोड़, स्मार्ट स्कूल पर 10 करोड़ रुपए शामिल हैं. इसके साथ ही इन परियोजनाओं को समयबद्ध तरीके से पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है और साथ ही यह भी देखा जा रहा है कि जो खर्च आ रहा है वह आय के साधनों से वापस भी मिले.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें