लखनऊ: खेल के दौरान लगी चोटों का अब मुफ्त में KGMU में होगा इलाज

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 12:21 PM IST
  • केजीएमयू और यूपीओए बीच हुआ समझौता चोटिल खिलाड़ियों का इलाज करेगा केजीएमयू. देश के किसी भी राज्य के खिलाड़ियों को ये सुविधाएं दी जाएगी बस शर्त ये है खिलाड़ी को अपने कोच से जरिए हॉस्पिटल से संपर्क करना होगा. राज्य के खिलाड़ियों को खेल के दौरान लगी चोटों के इलाज के लिए दर-दर नहीं भटकना होगा
लखनऊ: खेल के दौरान लगी चोटों का अब मुफ्त में केजिएमू में होगा इलाज

लखनऊ: राज्य के खिलाड़ियों को खेल के दौरान लगी चोटों के इलाज के लिए दर-दर नहीं भटकना होगा. केजीएमयू के स्पोर्ट्स मेडिसिन एवं इंजरी विभाग में खिलाड़ियों का इलाज होगा. इसमें मदद करेगा उत्तर प्रदेश ओलंपिक एसोसिएशन इलाज के लिए जितना सरकारी सुविधाएं हैं, वह खिलाड़ियों को मिलेगी. इसके अलावा अन्य कोई खर्च होता है तो उसका बंदोबस्त युपीओए करेगा. इसके लिए स्पोर्ट्स मेडिसिन एवं इंजरी विभाग के अध्यक्ष डॉ आशीष श्रीवास्तव और यूपीओए के महासचिव डॉ आनंदेश्वर पाण्डेयन के बीच समझौता हुआ.

कोचों के जरिए खिलाड़ी यूपीओए से करेंगे संपर्क

यूपी ओए के महासचिव आनंदेश्वर पाण्डेयन ने बताया कि जिन खिलाड़ियों को चोटों की समस्या या खेलों से संबंधित अन्य चिकित्सक की समस्याएं हैं. वह अपने कोच के जरिए उनसे संपर्क करेंगे इसके बाद इलाज के लिए यूपी खिलाड़ियों को केजीएमयू भेजेगा उन्होंने कहा कि यह सिर्फ राज्य ही नहीं बल्कि देश के किसी भी कोने के खिलाड़ी को यह सुविधा मिलेगी सरकारी सुविधाएं के अलावा इलाज में कोई भी जरूरत पड़ती है तो यूपी ओए इसका इंतजाम करेगी.

हाईकोर्ट में आम्रपाली ग्रुप के CMD अनिल शर्मा और ऑडिटर की जमानत याचिका खारिज

स्पोर्ट्स मेडिसिन एवं इंजरी विभाग के अध्यक्ष डॉ आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि केंद्र सरकार की पहल पर पूरे देश में ऐसे पांच सेंटर बनाए गए हैं केजीएमयू के स्पोर्ट्स मेडिसिन विभाग में खेल संबंधी सभी चोटों का इलाज होता है चोटिल खिलाड़ियों की मैदान में वापसी के लिए पुनर्वास की भी सुविधा है. छोटों का ऑर्थोस्कोपी एवं दूरबीन विधि से इलाज किया जाता है उन्होंने बताया कि सरकारी नीतियों के हिसाब से मामूली शुल्क पर ही इलाज होगा.

आवास विकास परिषद की अयोध्या योजना में फंसा पेच

इस मौके पर आईकॉनिक ओलंपिक गेम्स के प्रबंध निदेशक डॉ सैयद रफत रिजवी ने बताया कि खिलाड़ियों को खेल की चोटों के इलाज के लिए मुंबई दिल्ली बेंगलुरु चेन्नई आदि जाना पड़ता है इसका महंगा इलाज है अब इलाज लखनऊ में होगा

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें