स्वामी रामभद्राचार्य ने दी कोरोना का मात, 22 दिन बाद लखनऊ पीजीआई से मिली छुट्टी

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 08:06 PM IST
  • स्वामी रामभद्राचार्य की दो रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद शनिवार को डॉक्टरों ने उन्हें पीजीआई अस्पताल से छुट्टी दे दी. डॉक्टरों के अनुसार स्वामी जी की सभी जांच रिपोर्ट सामान्य है. 22 अगस्त को स्वामी जी में कोरोना की पुष्टि हुई थी.
कोरोना को मात देकर अस्पताल से बाहर आते स्वामी रामभद्राचार्य

लखनऊ. तुलसी पीठ के संस्थापक स्वामी रामभद्राचार्य ने आखिरकार कोरोना को हरा दिया है. लगातार दो रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद शनिवार को 22 दिनों के बाद उन्हें पीजीआई अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.

पीजीआई निदेशक डॉक्टर आरके धीमान ने बताया कि स्वामी रामभद्राचार्य को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के साथ ही डायबिटीज सहित अन्य सभी जांच रिपोर्ट सामान्य पाई गई हैं. स्वामी जी अब पहले से काफी स्वस्थ महसूस कर रहे हैं.

PM मोदी पर फेसबुक कमेंट करने पर जूनियर इंजीनियर सस्पेंड, MLA बनना चाहता था JE

अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद स्वामी ने डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों की अपने अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान सेवा को सराहा और उन्हें धन्यवाद भी दिया.

आपको बता दें कि गत 22 अगस्त को स्वामी रामभद्राचार्य को कोरोना संक्रमित होने के कारण पीजीआई अस्पताल में भर्ती कराया गया था. डॉक्टरों ने उन्हें सांस लेने में तकलीफ के कारण आईसीयू में शिफ्ट किया था.

मलिहाबाद पर CM योगी टफ, पहले SHO सस्पेंड, अब लखनऊ ग्रामीण SP का ट्रांसफर

72 वर्षीय स्वामी रामभद्राचार्य का जन्म जौनपुर जिले में हुआ था. स्वामी रामभद्राचार्य चित्रकूट के विकलांग विश्वविद्यालय के संस्थापक और चांसलर हैं. स्वामी 22 भाषाओं के ज्ञाता है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें