लखनऊ: स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन के बाद तकनीक में बदलाव, एक्सपर्ट कमेटी का गठन

Smart News Team, Last updated: 18/08/2020 03:04 PM IST
  • लखनऊ में स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले की जांच जारी है. वहीं अब स्मार्ट मीटर की तकनीक में बदलाव किे जा रहे हैं. कुछ दिनों पहले मीटर डिस्कनेक्शन की घटना पर जांच के लिए एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया गया है.
लखनऊ: स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन के बाद तकनीक में बदलाव, एक्सपर्ट कमेटी का गठन

लखनऊ. स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले की छानबीन के बीच ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पावर कारपोरेशन के चेयरमैन को निर्देश दिया है कि भविष्य में प्रदेश में सिर्फ उच्च व अत्याधुनिक तकनीक के ही स्मार्ट मीटर लगाए जाएं. इसके साथ ही राज्य में लग चुके स्मार्ट मीटरों को खामियों को दूर करने के लिए एक्सपर्ट कमेटी का गठन कर फिर से समीक्षा की जाए. दूसरी तरफ यूपीपीसीएल ने नियामक आयोग को पत्र लिखकर जांच रिपोर्ट देने में और समय मांग लिया है.

यूपीपीसीएल निदेशक (वाणिज्य) ने नियामक आयोग के सचिव को स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले में पत्र लिखा है. सूत्रों का कहना है कि आयोग द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब को देने के लिए और समय मांगा गया है. लिखा है कि सरकार इस मामले की जांच एसटीएफ से करा रही है. एसटीएफ की जांच रिपोर्ट और विभागीय जांच आने के साथ ही आयोग में दाखिल कर दिया जाएगा. 

लखनऊ: CM योगी के आदेश के बाद STF टीम ने शुरू की स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन की जांच

ऊर्जा मंत्री ने चेयरमैन को यह भी निर्देश दिए हैं कि एक एक्सपर्ट कमेटी गठित कर यह पता कराएं कि बहुत से स्मार्ट मीटर की आपूर्ति जो 16 अगस्त तक बंद थी और सिस्टम के संज्ञान में नहीं है, वह मीटर किस तकनीक के हैं. पुराने मीटरों पर लगे पूरी तरह रोक लगा दी गई है.

लखनऊ: स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले में गिरी बड़े अधिकारियों पर गाज, 2 सस्पेंड

बता दें कि कुछ दिन पहले पूरे शहर में स्मार्ट मीटर वाले सभी कनेक्शन कट गए. इनमें 16 मंत्रियों के बंगले भी शामिल थे. यहां तक की राज्य के डिप्टी सीएम के बंगले की भी बिजली कटी. इसी के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसकी जांच एसटीएफ से करवाने के लिए कहा था. एसटीएफ जांच कर रही है कि ये किसी तकनीकी खराबी से हुआ या किसी ने जानबूझकर किया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें