उखड़ते प्लास्टर, टूटे छज्जे, दीवार पर काई, 13 साल से पुताई नहीं, टिकैतराय सचिवालय कॉलोनी बना खंडहर

Somya Sri, Last updated: Thu, 7th Oct 2021, 10:37 AM IST
  • लखनऊ के टिकैतराय स्थित सचिवालय कॉलोनी की हालात जर्जर हो चुकी है. पूरा कॉलोनी खंडहर में तब्दील हो चुका है. दीवारों पर काई लगी है. प्लास्टर उखड़ रहे है. छज्जे टूटे हुए हैं. बारिश होने पर जलभराव के कारण घुटनों तक पानी भर जाता है जैसी स्तिथि में लोग रहने को मजबूर हैं.
उखड़ते प्लास्टर, टूटे छज्जे, दीवार पर काई, 13 साल से पुताई नहीं, टिकैतराय सचिवालय कॉलोनी बना खंडहर. फोटो साभार- हिदुस्तान

लखनऊ: लखनऊ के टिकैतराय स्थित सचिवालय कॉलोनी के लोग बदहाल स्थिति में रहने को मजबूर हैं. कई बार शिकायत करने के बावजूद भी उनकी सुनवाई नहीं हो रही है. बताया जा रहा है कि टिकैतराय स्थित सचिवालय कॉलोनी की हालात जर्जर हो चुकी है. पूरा कॉलोनी खंडहर में तब्दील हो चुका है. दीवारों पर काई लगी है. प्लास्टर उखड़ रहे है. छज्जे टूटे हुए हैं. बारिश होने पर जलभराव के कारण घुटनों तक पानी भर जाता है जैसी स्तिथि में लोग रहने को मजबूर हैं.

कॉलोनी निवासी शमीम का कहना है कि कभी यह पॉश कॉलोनी के रूप में जानी जाती थी. आवास आवंटित कराने के लिए मारामारी होती थी. पर आज हालत यह है लोग आवास छोड़कर जाने को मजबूर है. पिछले 13 सालों से यह पुताई ही नहीं हुई है. टंकी से आने वाली पानी सप्लाई की पाइप भी टूटी पड़ी है. साफ सफाई की उचित व्यवस्था नहीं है. बारिश में घुटनों तक पानी भर जाता है. मुख्यमंत्री और रक्षामंत्री से शिकायत भी कर चुके हैं. फिर भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

सपा प्रमुख अखिलेश यादव लखीमपुर के लिए रवाना, पीड़ित परिवारों से करेंगे मुलाकात

वही कॉलोनी निवासी ऋषभ का कहना है कि कई वर्षों से कोई मरम्मत नहीं हुई. कई आवास के छज्जे बिल्कुल टूट गए हैं. जिम्मेदार मानो हादसा होने का इंतजार कर रहे हैं. इधर लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता सुनील कांत ने कहा कि कॉलोनी काफी पुरानी है. कई जगह पर प्लास्टर उखड़ गए हैं. रंगाई पुताई और मरम्मत कार्य के लिए प्रस्ताव बनाकर जल्द शासन को भेजा जाएगा. बजट मिलते ही कार्य शुरू किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें