लखनऊ: भ्रष्टाचार के आरोप में फरार यूपी कैडर के दो आईपीएस बने पुलिस के लिए मुसीबत

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 12:46 PM IST
 उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार और पूर्व डीआईजी अरविंद सेन फरार चल रहे है. दोनो को अलग-अलग मामलों एसटीएफ ने दौषी पाया था. कोर्ट ने आरोपियों की संपति कुर्की करने का आदेश दिया है.
भ्रष्टाचार के आरोप में यूपी कैडर के दो आईपीएस ऑफिसर फरार चल रहे है. ( सांकेतिंक फोटो )

लखनऊ: भ्रष्टाचार के मामलों में फरार चल रहे यूपी कैडर के दो आईपीएस अधिकारी पुलिस के लिए चुनौती बनते जा रहे है. महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार और पूर्व लखनऊ डीआईजी अरविंद सेन फरार चल रहे है. पुलिस ने मणिलाल पारीदार पर 50 हजार रुपये का इनांम रखा है. यूपी पुलिस अब पाटीदार के घर के कुर्की करने की तैयारी कर रही है. पूर्व एसपी पर कोर्ट के आदेश का पालन न करने का आरोप है.

पूर्व आईपीएस आधिकारी पर पाटीदार पर महोबा के क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी पर जानलेवा हमले में मौत का आरोप है. वहीं पूर्व डीआईजी अरिंवद सेन पर लखनऊ पशुपालन विभाग में भ्रष्टाचार के आरोप लगे है. दोनो ही आईपीएस अधिकारी अभी तक पुलिस की पहुंच से दूर है. पुलिस ने दोनो के ऊपर 50-50 हजार रुपये का ईनाम रखा है. अरविन्द सेन को 22 अगस्त और मणिलाल नौ सितंबर को पद से निलंबित कर दिया था. दोनो ही एसटीएफ की जांच में दोषी पाए गए थे. वही कोर्ट ने दोनो की अग्रिम जमानत की याचिका को निरस्त कर दी गई था.

आवास विकास परिषद की अयोध्या योजना में फंसा पेच

महोबा के पूर्व एसपी रहे मणिलाल पाटीदार के खिलाफ पहला मुकदमा 10 सितंबर को दर्ज किया गया था.उनके कुछ दिन बाद ही लखनऊ स्थित भ्रष्टाचार निवारण की अदालत ने वारंट जारी कर दिया. दोनो की गिरफ्तारी के लिए कई टीमों का गठन किया गया है. गठित टीमें दिल्ली से लेकर राजस्थान तक दबिश दे रही है. बता दें कि अरविन्द फैजाबाद के रहने वाले हैं औ पूर्व सांसद स्व. मित्रसेन यादव के पुत्र हैं.

प्रदेश में उद्योगों का मनमाने तरीके से सर्वे नहीं कर पाएंगे निरीक्षक

अब जिलों के औचक दौरे पर निकलेंगे सीएम योगी, जानेंगे हकीकत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें