लखनऊ: पावर डिस्कनेक्शन केस के बाद 15 दिन रोका गया स्मार्ट मीटर लगाने का काम

Smart News Team, Last updated: 20/08/2020 01:20 PM IST
  • उत्तर-प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड के प्रबंध निदेशक के आदेश पर अगले 15 दिनों तक स्मार्ट मीटर लगाने का काम रोक दिया गया है. बुधवार को एम देवराज ने पत्र लिखकर इसकी जानकारि दी.
प्रबंध निदेशक एम देवराज का पत्र

लखनऊ. स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले के बाद बुधवार को उत्तर-प्रदेश पावर कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक एम देवराज ने ईईएसएल को पत्र लिखकर स्मार्ट मीटर लगाने के काम को 15 दिन तक रोक दिया है. 

दरअसल प्रदेश में 40 लाख स्मार्ट मीटर लगाने का काम जारी है. ऐसे में स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले के कुछ दिन बाद यह आदेश आया है. हालांकि आदेश में एम देवराज ने कोई वजह नहीं बताई है.

लखनऊ: सॉफ्टवेयर गड़बड़ी से डिप्टी सीएम समेत 16 मंत्रियों के बंगले की बिजली कटी

हाल ही में लखनऊ, मेरठ समेत यूपी के कई जिलों में स्मार्ट मीटर वाले घरों की बिजली कटने की वजह से हंगामा मच गया था. जिन घरों में स्मार्ट मीटर लगे थे उन सभी की बिजली गुल हो गई थी. इसका असर प्रदेश के लाखों उपभोक्ता पर पड़ा था.

लखनऊ: स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन के बाद तकनीक में बदलाव, एक्सपर्ट कमेटी का गठन

काफी लोगों ने लखनऊ, मेरठ समेत कई शहरों के बिजली घरों पर प्रदर्शन भी किया था. स्मार्ट मीटर पावर कट में डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा, ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा समेत योगी सरकार के कई मंत्रियों तक की बिजली भी कट गई थी. 

लखनऊ: CM योगी के आदेश के बाद STF टीम ने शुरू की स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन की जांच

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने सीएम योगी को इस संबंध में पत्र लिखा था. सीएम योगी ने इस मामले में कड़ी कार्रवाई के आदेश देते हुए एसटीएफ को जांच सौंप दी थी. अब एसटीएफ केस की जांच कर रही है.  

लखनऊ: स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्शन मामले में गिरी बड़े अधिकारियों पर गाज, 2 सस्पेंड

स्मार्ट मीटर डिस्कनेक्श मामले में स्टेट हेड यूपी ईईएसएल आदेश सक्सेना और एलएंडटी के प्रोजेक्ट मैनेजर शशिकांत अग्रवाल को सस्पेंड किया जा चुका है.

बिल भरने के बाद भी स्मार्ट मीटर वालों का कटा बिजली कनेक्शन, हंगामा, देखें फोटो

एसटीएफ इस मामले में जांच कर रही है कि इतनी संख्या में स्मार्ट मीटर आखिरकार कैसे फेल हो गए थे और गलत प्रोग्रामिंग कैसे अपलोड हो गई. स्मार्ट मीटर फेल होने के पीछे तकनीकी खराबी थी या फिर जान-बूझकर कर ऐसा हुआ. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें