रियल एस्टेट कंपनी के नाम पर महिला ने ठगे 1.37 करोड़ रुपए, पीड़ित व्यापारियों ने दर्ज कराई शिकायत

Haimendra Singh, Last updated: Mon, 3rd Jan 2022, 11:24 AM IST
  • लखनऊ के व्यापारियों ने हंसनगज थाना एक मुकदमा दर्ज कराया है कि रियल एस्टेट कंपनी खोलने के नाम पर एक महिला ने उनसे 1.37 करोड़ रुपए की ठगी की है. शिकायत के बाद लखनऊ पुलिस मामले की जांच में जुट गई है.
लखनऊ में रियल एस्टेट कंपनी के नाम पर महिला ने ठगे 1.37 करोड़ रुपए.( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में ठगी का एक मामला सामने आया है जहां एक महिला ने 5 लोगों से रियल स्टेट कंपनी खोलने के नाम पर करीब 1.37 करोड़ रुपए की ठग कर दी. पीड़ितों ने लखनऊ के हसनगंज थाने में महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है. पीड़ितों ने कहा है कि वह काफी समय से महिला के खिलाफ शिकायत दर्ज कराना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने पिछले पांच महीने से इधर से उधर घुमाती रही. वरिष्ठ आधिकारियों से शिकायत करने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है. 

पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि लखीमपुर धौरहरा के रहने वाले मो. शाबान की कुछ महीने पहले निरालानगर में रहने वाली एक महिला से मुलाकात हुई थी. महिला ने अपना नाम उषा बताया था. मुलाकात के बाद दोनों में बातचीत शुरू हुई. महिला ने शाबान से पार्टनरशिप में एक रियल एस्टेट कंपनी खोलने की बात कही. कंपनी खोलने के बाद शाबान ने अपने पांच दोस्तों को भी कंपनी में पैसा लगाने के लिए मनाना शुरू किया. शाबान ने बताया कंपनी में करीब 1.37 करोड़ रुपए लगाने के बाद उषा ने धीरे-धीरे सारे कागजात अपने नाम करने शुरू कर दिए. 

सावधान! फेक वेबसाइट बना LPG डीलरशिप देने के नाम पर ठग लिए 7 लाख

लोन लेकर कंपनी में किया था इंवेस्ट

पीड़ित व्यापारियों का कहना है कि शाबान के कहने के बाद पांचों कारोबारियों ने रीयल स्टेट कंपनी में इंवेस्ट करने के लिए लोन लिया था. कंपनी में इंवेस्ट करने से पहले सभी पार्टनरों के बीच यह समझौता हुआ था कि पहले लोन किस्त का भुगतान किया जाएगा उसके बाद ही सभी साझेदार कंपनी से अपना इंवेस्टमेंट निकालेंगे.

बिजनेस पार्टनरों ने लगाए धोखाधड़ी के आरोप

रियल स्टेट कंपनी के साझेदारों का कहना है कि महिला ने धोखे से कंपनी पर मालिकाना हक ले लिया है. कंपनी का सारा पैसा ऊषा के नाम से बैंक अकाउंट में था. करीब छह महीने से महिला ने अपने बिजनेस पार्टनरों से मिलना बंद कर दिया और उसका मोबाइल नंबर भी बंद ही जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें