इस साल शुक्रवार को लगेगा का आखिरी चंद्रग्रहण, इन राशियों पर पड़ेगा प्रभाव,जानिए समय

Sumit Rajak, Last updated: Thu, 18th Nov 2021, 1:52 PM IST
  • साल का अंतिम चंद्र ग्रहण नवंबर को शुक्रवार के दिन लगेगा. भारतीय समय के अनुसार 19 अक्टूबर को चंद्र ग्रहण सुबह 11:32 मिनट से शुरू कर शाम 05:33 मिनट पर खत्‍म होगा. भारत में ये ग्रहण समाप्ति के दौरान आंशिक तौर पर देखा जा सकेगा. आंशिक होने की वजह से इस ग्रहण का सूतक मान्य नहीं होगा.जबकि यानी पूजा-पाठ संबंधित किसी भी तरह की पाबंदियां मान्य नहीं होंगी.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. साल का अंतिम चंद्र ग्रहण नवंबर को शुक्रवार के दिन लगेगा. इसी दिन कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि भी है. भारतीय समयानुसार 19 अक्टूबर को चंद्र ग्रहण सुबह 11:32 मिनट से शुरू कर शाम 05:33 मिनट पर खत्‍म होगा. भारत में ये ग्रहण समाप्ति के दौरान आंशिक तौर पर देखा जा सकेगा. आंशिक होने की वजह से इस ग्रहण का सूतक मान्य नहीं होगा. यानी पूजा-पाठ संबंधित किसी भी तरह की पाबंदियां मान्य नहीं होंगी.

इस साल का चंद्रग्रहण शुक्रवार, 19 नवंबर 2021 को लगेगा. हिंदू पंचांग के मुताबिक ये आंशिक चंद्रग्रहण कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा की तिथि को लग रहा है. ये साल 2021 का अंतिम चंद्रग्रहण है. भारत में इसका प्रभाव दोपहर बाद 2.34 बजे अपने चरम पर होगा.भारत के कई राज्यों में ये चंद्रग्रहण आंशिक रूप से ही दिखेगा. ये चंद्रग्रहण पूरे भारत में नहीं दिखेगा. ये भारत के पूर्वोत्तर के राज्य असम और अरुणाचल प्रदेश में ही कुछ समय के लिए स्पष्ट दिखाई देगा. इसके अलावा विदेश में ये अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया और प्रशांत महासागर में दिखाई देगा. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक ये चंद्र ग्रहण वृषभ राशि और कृत्तिका नक्षत्र में लगेगा.

Lunar Eclipse 2021: चंद ग्रहण के दिन करें दान,किस समस्या के हल के लिए कैसा दान देना उचित

भारतीय समय के हिसाब से ये चंद्रग्रहण 19 नवंबर 2021, दिन शुकवार को सुबह 11 बजकर 32 मिनट से शुरू होगा. जबकि शाम 05 बजकर 33 मिनट पर खत्म हो जाएगा. इस ससल सूतक काल भारत में प्रभावी नहीं रहेगा. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार चंद्रग्रहण के दौरान किसी भी तरह की शुभ या मांगलिक काम की मनाही है. इस दौरान मंदिर के कपात भी बंद कर दिए जाएंगे. ग्रहण काल में गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतने को कहा जाता है. धार्मिक मान्यता है कि इस दौरान शिव की आराधना करने से लाभ मिलता है.

ज्योतिषाचार्यों की माने तो इस साल का दूसरा और अंतिम चंद्रग्रहण वृषभ राशि और कृतिका नक्षत्र में लगेगा. वृषभ, कन्या, वृश्चिक, धनु और मेष राशि के जातकों पर चंद्र ग्रहण का सबसे ज्यादा असर पड़ेगा. इस दौरान इन राशि वालों को वाद विवाद से बचने की सलाह दी जाती है. साथी इस राशि के लोग फालतू के खर्च से भी बचें.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें