स्वदेशी कोरोना वैक्सीन की मंजूरी पर बोले शिवपाल- हर भारतीय के लिए गर्व का क्षण

Smart News Team, Last updated: Sun, 3rd Jan 2021, 5:06 PM IST
  • भारत की कोवैक्सीन और कोवडिशील्ड के उपयोग की मंजूरी पर प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव ने वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए कहा कि ये हर भारतीय के लिए गर्व का क्षण है.
भारत की कोवैक्सीन और कोविडशील्ड वैक्सीन को डीसीजीआई ने आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दी.

लखनऊ. कोरोन के बचाव के लिए भारत की कोवैक्सीन और कोविडशील्ड वैक्सीन को इस्तेमाल करने की मंजूरी मिलने पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी प्रसपा के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने ट्वीट करते हुए वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए कहा कि ये हर भारतीय के लिए गर्व का क्षण है. आपको बता दें कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने भारत की कोवैक्सीन और कोविडशील्ड वैक्सीन को आपतकालीन स्थिति में इस्तेमाल करने की मंजूरी दे दी है.

प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा कि निःसंदेह यह हर भारतीय के लिए गर्व का क्षण है. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के कोविडशील्ड और भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को आपातकालीन स्थिति में प्रतिबंधित उपयोग को अनुमति दे दी है. शिवपाल यादव ने कहा, भारतीय वैज्ञानिकों की मेधा और उद्यमिता को नमन.

बसपा सुप्रीमों ने ट्‌वीट कर वैक्सीन बनाने के लिए वैज्ञानिकों को दी बधाई

वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट करते हुए कहा कि अति-घातक कोरोना वायरस महामारी को लेकर आए स्वदेशी वैक्सीन टीके का स्वागत और वैज्ञानिकों को बहुत-बहुत बधाई. मायावती ने कहा कि केन्द्र सरकार से विशेष अनुरोध भी है कि देश में सभी स्वास्थ्यकर्मियों के साथ-साथ सर्वसमाज के अति-गरीबों को भी इस टीके की मुफ्त व्यवस्था की जाए तो ये उचित होगा.

लखनऊ: खून जांच की रिपोर्ट देखकर कंप्यूटर बताएगा कि बच्चे की बीमारी कितनी गम्भीर

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कोरोना के टीकाकरण पर बीजेपी को घेरते हुए ट्वीट करते हुए कहा कि कोरोना का टीकाकरण एक संवेदनशील प्रक्रिया है इसलिए भाजपा सरकार इसे कोई सजावटी-दिखावटी इवेंट न समझे और अग्रिम पुख्ता इंतजाम के बाद ही शुरू करे. सपा अध्यक्ष ने कहा कि ये लोगों के जीवन का विषय है अतः इसमें बाद में सुधार का खतरा नहीं उठाया जा सकता है. गरीबों के टीकाकरण की निश्चित तारीख हो.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें