मायावती बोलीं- BJP के साथ किसी भी कीमत पर गठबंधन नहीं, सपा फैला रही अफवाह

Smart News Team, Last updated: 02/11/2020 03:41 PM IST
  • मायावती ने सोमवार को प्रेंस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान मायावती ने कहा कि मैं राजनीति से सन्यास नहीं ले रही हूं. भाजपा से गठबंधन की अफवाह सपा-कांग्रेस के द्वारा फैलाई जा रही है, ताकि मुस्लिमों का वोट हमें न मिले.
BSP चीफ मायावती

लखनऊ: यूपी में विधानसभा की सात सीटों पर मंगलवार को होने वाले मतदान से एक दिन पहले मायावती ने बीजेपी के साथ मिले होने के आरोपों पर सफाई दी है. गौरतलब है कि मातावती ने कुछ दिन पहले ही समाजवादी पार्टी के प्रत्‍याशियों को हराने के लिए बीजेपी के पक्ष में वोटिंग से परहेज नहीं करने की बात कही थी.

बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को प्रेंस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान मायावती ने कहा कि मैं राजनीति से सन्यास नहीं ले रही हूं. भाजपा से गठबंधन की अफवाह सपा-कांग्रेस के द्वारा फैलाई जा रही है, ताकि मुस्लिमों का वोट हमें न मिले. भाजपा, कांग्रेस की बाप निकली है. सीबीआई व ईडी का इस्तेमाल कर मुझे परेशान करने की कोशिश हुई.

मायावती ने कहा कि बसपा, भाजपा के साथ किसी भी कीमत पर गठबंधन नहीं करेगी. कांग्रेस और सपा के लोग गठबंधन करने का झूठा प्रचार कर रहे हैं. ऐसा इसलिए किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में 7 विधानसभा सीटों पर होने उपचुनाव में मुसलमानों का वोट बसपा को न पड़े. हमारा भाजपा के साथ कोई गठबंधन नहीं है न ही होगा. क्योंकि उनकी पार्टी की विचारधारा बसपा से नहीं मिलती है. उन्‍होंने कहा, 'हमारी विचारधारा 'सर्वजन सर्वधर्म हिताय की है और यह बीजेपी की विचारधारा के विपरीत है. बीएसपी उनके साथ गठबंधन नहीं कर सकती जो सांप्रदायिक, जातिवादी और पूंजीवादी विचारधारा के हैं.'

फ्रांस आतंकी हमलों को सही बताने वाले मुनव्वर राणा को कुमार विश्वास ने दिया जवाब!

मेरे शासनकाल में एक भी दंगा नहीं हुआ- मायावती

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि मैं काफी मजबूत हूं. एमएलसी चुनाव में समाजवादी पार्टी को हराऊंगी. मैं किसी के दबाव में आने वाली नहीं हूं. न ही अभी कोई सन्यास लेने वाली नहीं हूं. मायावती ने खासकर मुस्लिमों का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी पार्टी ने सभी धर्मों व वर्गों का खास ख्याल रखा है. मुस्लिमों ने भी बसपा को वोट दिया और लोगों को टिकट भी दिया गया. भले ही छवि खराब की गई हो, लेकिन मेरे शासनकाल में एक भी दंगा नहीं हुआ.

सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के आरोप में लखनऊ में मुनव्वर राणा के खिलाफ FIR दर्ज

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें