भाजपा की जन कल्याणकारी नीति की कथनी और करनी में फर्क- मायावती

Anurag Gupta1, Last updated: Fri, 1st Oct 2021, 3:46 PM IST
मायावती ने गोरखपुर पुलिस द्वारा व्यापारी मनीष गुप्ता की मौत से लेकर राजधानी की सड़क की दुर्दशा तक यूपी सरकार पर निशाना साधा. मायावती ने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि मौजूदा सरकार जरा सा भी जनकल्याण के प्रति ईमानदार होती तो इसकी कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर नहीं होता.
बसपा सुप्रीमो मायावती (फाइल फोटो)

लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती योगी सरकार पर निशाना साधते हुए नजर आ रही है. अभी बीते दिन ही मायावती ने गोरखपुर के रामगढ़ ताल स्थित एक होटल में हुई व्यापारी मनीष गुप्ता की मौत पर ट्विटर के माध्यम से सरकार पर निशाना साधा था. इसके बाद आज कानून और लखनऊ की सड़कों की दुर्दाशा को लेकर ट्विट किया है. साथ ही कहा यूपी सरकार की तरह लखनऊ नगर निगम भी नाम बदलने में माहिर है.

मायावती ने कानून व्यावस्था से लेकर गढ्ढे मुक्त सड़कों तक सबको खोखला बताया. मायावती ने कहा कि भाजपा अगर जनता और जनकल्याण के प्रति थोड़ा भी ईमानदार होती तो उसकी कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर नहीं होता. मायावती प्रदेश सरकार पर कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता हत्याकांड को लेकर निशाना साध रही हैं.

सीएम योगी आज लखनऊ में बाटेंगे नवनियुक्त नायब तहसीलदारों को नियुक्ति पत्र

मायावती ने ट्वीट में कहा:

यूपी में भाजपा की ‘डबल इंजर’ की सरकार है फिर भी राजधानी लखनऊ की सड़कों की जो दुर्दशा है उससे जान के जंजाल के चर्चे हर जगह है. लेकिन लखनऊ नगर निगम इसकी हालत सुधारने की बजाय राज्य सरकार की तरह नाम बदलने में माहिर हो गया है. प्रदेश की बहुत विचित्र स्थिति हो गई है. आगे कहा यूपी सरकार में कानून व्यावस्था व विकास दर की बदतर स्थिति की तरह ही यहाँ के शहरी व ग्रामीण सड़कों की दुर्दशा है. जिससे प्रदेश की जनता का जीवन अस्त व्यस्त है. काश भाजपा सरकार जनहित व जनकल्याण के प्रति थोड़ा ईमानदार होती तो इनकी कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर होता. 

इसके पहले मायावती ने ट्विट करके यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर पुलिस द्वारा तीन व्यापारियों के साथ होटल में बर्बरता व उसमें से एक की मौत को अनुचित बताया था. कहा था कि प्रथम दृष्टया में दोषी पुलिसवालों को बचाने के लिए मामले को दबाने का प्रयास किया गया जो अनुचित है. सरकार को परिजनों की स्थिति को देखते हुए इस मामले की जांच सीबीआई से करवानी चाहिए.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें