लखनऊ विश्वविद्यालय में जल्द शुरू होगा एमबीए फाइनेंस एंड एकाउंट कोर्स

Smart News Team, Last updated: 05/03/2021 02:48 PM IST
  • लखनऊ विश्वविद्यालय में जल्द ही एमबीए फाइनेंस एंड एकाउंट कोर्स शुरू किया जाएगा. लखनऊ कॉमर्स विभाग इसे नए सत्र से पीजी स्तर पर शुरू करेगा. जिसमें छात्रों को कॉरपोरेट सेक्टर से लेकर फाइनेंस की कंपिनियों में बड़े स्तर पर रोजगार के लिए तैयार किया जाएगा.
लखनऊ विश्वविद्यालय में जल्द शुरू होगा एमबीए फाइनेंस एंड एकाउंट कोर्स

लखनऊ विश्वविद्यालय में जल्द ही कॉमर्स विभाग एमबीए फाइनेंस एंड एकाउंट कोर्स को शुरू करने जा रहा. यह प्रोफेशनल कोर्स नए सत्र से पीजी स्तर पर शुरू किया जाएगा. जिसमें 40 सीटों पर प्रवेश कराया जाएगा. इस कोर्स को शुरू करने का निर्णय विभाग ने बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक में लिया. यह बैठक दो दिन पहले हुई थी. जिसमें कोर्स के संचालन, फीस, पाठ्यक्रम, प्रवेश के लिए मेरिट आदि के बारे में तय किया गया. इस कोर्स के माध्यम से छात्रों को कॉरपोरेट सेक्टर से लेकर फाइनेंस की कंपनियों में नौकरी करने के लिए तैयार किया जाएगा.

एमबीए फाइनेंस एंड एकाउंट कोर्स में चार सेमेस्टर होंगे. जिसमें पहले और दूसरे सेमेस्टर में छात्रों को लैब ट्रेनिंग दी जाएगी. जिसमें उन्हें प्रत्येक सेमेस्टर में 40 घंटे की कंप्यूटर लैब करनी अनिवार्य होगी. इसके अलावा उन्हें कंपनियों में एकाउंटिंग की सभी तकनीकों की जानकारी एवं शिक्षा दी जाएगी. कोर्स में छात्रों की क्लास में चार्टड एकाउंटेंट से लेकर फाइनेंस व कॉरपोरेट सेक्टर्स के एक्सपर्ट पढ़ाने के लिए आएंगे. यह कोर्स च्वाइस बेस क्रेडिट सिस्टम मोड (सीबीसीएस) पर संचालित किया जाएगा. जिसमें हर सेमेस्टर की फीस 40 हजार रुपये होगी.

अजीत सिंह हत्याकांड के आरोपी पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने इलाहाबाद में किया सरेंडर

इस कोर्स में प्रवेश पाने के लिए विद्यार्थियों के स्नातक में 60 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य है. प्रवेश के बाद इन छात्रों को कोर्स में डिजिटल एकाउंटिंग, इनोवेटिव एकाउंटिंग, ग्रीन एकाउंटिंग जैसी प्रमुख चीजों के बारे में सिखाया जाएगा. लखनऊ कॉमर्स विभाग के हेड प्रो. अवधेश कुमार के अनुसार छात्रों को ऐसे तैयार किया जाएगा. जिससे उन्हें कॉरपोरेट कंपनी, म्यूचुअल फंड, स्टॉक मार्केट, इंश्योरेंस सेक्टर आदि में बड़े स्तर पर आसानी से रोजगार प्राप्त हो सके.

यूपी पंचायत चुनाव 2021: बूथों पर महिला कर्मियों की अनिवार्यता खत्म

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें