UP: मेडिकल कॉलेज में छोटे हो गए MBBS छात्रों के बाल, अधिकारी हैरान, रैगिंग का शक

Smart News Team, Last updated: Thu, 25th Mar 2021, 8:06 PM IST
  • लखनऊ के लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में एमबीबीएस के प्रथम वर्ष के छात्रों ने सीनियर्स के डर की वजह से अपने बाल छोटे किए. जिसके बाद रैगिंग की आशंका जताई जा रही है. वहीं संस्थान प्रशासन इस घटना को दबाने में जुटा हुआ है.
लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में एमबीबीएस के छात्रों ने सीनियर्स के आदेश पर अपने बाल छोटे किए.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में एमबीबीएस के प्रथम वर्ष के छात्रों ने अचानक अपने बाल छोटे-छोटे करवा लिए हैं. मिली जानकारी के मुताबिक, सीनियर्स के फरमान के बाद जूनियर छात्रों ने अपने बाल खुद छोटे कर लिए हैं. संस्थान में इस घटना के होने से रैंगिंग की आशंका जताई जा रही है. वहीं संस्थान प्रशासन इस घटना को दबाने में जुट गया है.

अचानक संस्थान के जूनियर छात्रों के बाल छोटे होने की बात अधिकारियों के जेहन में खटकने लगी है. बाल छोटे करने पर जूनियर छात्रों का कहना है कि सीनियरों छात्रों के आदेश पर हॉस्टल में ट्रिमर से अपने बाल छोटे किए हैं. लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में इस घटना से छात्र डरे-सहमे हुए हैं. आपको बता दें कि लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में एमबीबीएस की 200 सीटें हैं. कोरोना की वजह से 2020 बैच की कक्षाएं 2021 में शुरू हुई है.

लखनऊ के बेसिक शिक्षा अधिकारी दिनेश कुमार हटाये गए, जानें वजह

मिली जानकारी के अनुसार, छात्रों को 1 फरवरी को लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में बुलाया गया था. जिसके बाद उनको हॉस्टल में ही क्वारंटीन किया गया था. इसके बाद सभी छात्रों का कोरोना टेस्ट किया गया. 14 दिनों तक इन छात्रों की कक्षाएं हॉस्टल में ही ऑनलाइन क्लास ली गईं थीं. इसके बाद 12 फरवरी से ऑफलाइन कक्षाओं को शुरू किया गया था.

लखनऊ पीजीआई में 30 मार्च से दोबारा शुरू होगी ई- ओपीडी, रोज देखे जाएंगे 50 मरीज

संस्थान के जूनियर छात्रों के बाल छोटे होने पर रैंगिंग की आशंका जताई जा रही है. आपको बता दें कि लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में पहले भी रैगिंग के मामले सामने आ चुके हैं. पहली बार 2019 सितंबर में रैगिंग की घटना सामने आई थी. जिसमें पीड़ित छात्रों ने यूजीसी के एंटी रैगिंग सेल में इसकी शिकायत की थी. तब आरोपियों को नोटिस देकर छोड़ दिया गया था. इसके बाद भी रैगिंग के कई मामले सामने आए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें