खनन घोटाला: रिटायर IAS सत्येन्द्र सिंह की मुश्किलें बढ़ीं, ED दर्ज करेगा FIR

Smart News Team, Last updated: Thu, 4th Feb 2021, 11:58 AM IST
  • CBI के शिकंजे में फंसे रिटायर IAS सत्येन्द्र सिंह के खिलाफ ED जल्द मनी लांड्रिंग का केस दर्ज करके अपनी जांच शुरू कर सकता है.
फाइल फोटो

लखनऊ: खनन घोटाले में CBI के शिकंजे में फंसे रिटायर IAS सत्येन्द्र सिंह की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं. वे अब प्रवर्तन निदेशालय (ED) के भी निशाने पर हैं. ED भी जल्द ही उनके खिलाफ मनी लांड्रिंग का केस दर्ज करके अपनी जांच शुरू कर सकता है. इसके लिए ईडी ने CBI की FIR और उसके छापों में बरामद चल-अचल संपत्तियों के ब्योरे की छानबीन शुरू कर दी है.

CBI ने कौशाम्बी में हुए खनन पट्टे को लेकर FIR दर्ज की है. इसमें उनके साथ कौशांबी के नेपाली निषाद, नर नारायण मिश्रा, रमाकांत द्विवेदी, खेमराज सिंह, मुन्नी लाल, शिव प्रकाश सिंह, राम अभिलाष व योगेंद्र सिंह के अलावा प्रयागराज निवासी राम प्रताप सिंह भी नामजद अभियुक्त हैं. 

प्रतिबंधित सॉफ्टवेयर के जरिए ई-टिकट निकालने का गोरखधंधा जारी

सत्येंद्र सिंह और उनके करीबी रिश्तेदारों के लखनऊ, कानपुर, गाजियाबाद व दिल्ली के ठिकानों पर मंगलवार को की गई छापेमारी में सीबीआई को 10 लाख रुपये नकद व 51 लाख रुपये के फिक्स डिपाजिट समेत लगभग 100 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्तियों के दस्तावेज बरामद हुए हैं.

फर्जी अपर महाधिवक्ता बनकर DM को दिखाया रौब, अब गिरफ्तारी की बारी

सूत्रों के अनुसार CBI सत्येन्द्र व उनके करीबियों के बैंक खातों व बैंक लॉकरों की भी जांच करेगा. वहीं, CBI से पूरी जानकारी मिलने के बाद ईडी अपनी कार्रवाई शुरू करेगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें