UP में सीएम पोर्टल पर मंत्री भी कर रहे शिकायत, जानें पूरा मामला

Smart News Team, Last updated: Mon, 22nd Mar 2021, 3:21 PM IST
  • उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के अनुसार राज्य में शिकायत निवारण के लिए एक एकीकृत प्रणाली आईजीआरएस बनाई गई है जिसपर कोई भी शिकायत दर्ज करा सकता है. जहां राज्य के मंत्री, सांसद और विधायकों के कामकाज में हो रही लेट-लतीफी से परेशान होकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शिकायत की है.
UP में सीएम पोर्टल पर मंत्री भी कर रहे शिकायत, जानें पूरा मामला

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राज्य के मंत्री, सांसद और विधायकों के कामकाज में हो रही लेट-लतीफी से परेशान और इनकी सुनवाई न होने से नाराज होकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इसकी शिकायत की है. इसके अलावा उन्होंने अपनी शिकायतें और समस्याएं आईजीआरएस पोर्टल यानी इंटीग्रेटेड ग्रेवांस रेड्रेसल सिस्टम पर भी दर्ज करवाई हैं तो कहीं कुछ मामलों में वह खुद मुख्यमंत्री कार्यालय में उनकी शिकायतों को आईजीआरएस पर दर्ज करवा रहे हैं. इससे जिन कामों को करवाने के लिए इन सांसदों-विधायकों को मेहनत करनी पड़ती थी वह काम आईजीआरएस से आसानी से हो रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिछले दिनों विधायकों और सांसदों की समस्याएं को प्राथमिकता से निस्तारित करने का निर्देश देने के बावजूद अधिकारियों पर काम में देरी और लापरवाही के आरोप अभी भी लग रहे हैं. अब आईजीआरएस पर लोगों का विश्वास बढ़ा है. इसीलिए आम नागरिकों के साथ-साथ मंत्री, सांसद और विधायक भी इस पर शिकायतें दर्ज कराना शुरू कर रहे हैं.

लखनऊ: हॉस्टल के बिस्तर से गिरकर छात्र की हुई मौत, हत्या या आत्महत्या पुलिस जांच में लगी

इन अधिकारियों की शिकायतें हुई हैं आईजीआरएस पर दर्ज

-राज्य मंत्री स्वाति सिंह की हिंद नगर कॉलोनी को नगर निगम को हैंड ओवर करने के संबंध में एक शिकायत आईजीआरएस पर दर्ज है, जिसका नंबर 11157180082696 है. इस मामले की रिपोर्ट दो मार्च को विशेष सचिव आवास रणविजय सिंह ने एलडीए से मांगी है.

-लखनऊ के मोहनलालगंज सीट से सांसद कौशल किशोर की आईजीआरएस पर शिकायत दर्ज हैं. उन्होंने वास्तुखण्ड गोमतीनगर की छेदाना को रोजी रोटी के लिए मिले चबूतरे की रजिस्ट्री के लिए सीएम को भी पत्र लिखा.उनकी यह शिकायत 31 जनवरी को आईजीआरएस पर दर्ज हुई है. जिसका नंबर 19000210008906 है.

-विधायक सुरेश श्रीवास्तव की आईजीआरएस पर की गई शिकायत का नम्बर 1815719004 9218 है. विधायक नीरज बोरा के साथ साथ शेखूपुर बदायूं के विधायक धर्मेंद्र शाक्य की भी कई शिकायतें आईजीआरएस पर दर्ज हैं. 24 फरवरी को उन्होंने लखनऊ के सरसांवा में सरकारी जमीन पर तीन कम्पनियों के नक्शा पास करने की शिकायत की है.

-अमांपुर कासगंज के विधायक देवेंद्र प्रताप सिंह ने गोमतीनदी के किनारे तटबंध की जमीन पर भवन बनाने के लिये बिल्डर को परमिट दिए जाने की शिकायत की है.

-बरेली के विधायक डॉ. अरुण कुमार की फ्लैट संख्या ई- 508 ग्रीनवुड अपार्टमेंट गोमतीनगर विस्तार में जल रिसाव की शिकायत दो फरवरी को आइजीआरएस पर दर्ज है.

-- कानपुर नगर के विधायक सुरेंद्र मैथानी ने 10 जनवरी को आशा सिंह के शिप्रा एस्टेट बिल्डर से खरीदे दोनों भूखण्डों की रजिस्ट्री कराने के संबंध में सीएम को पत्र लिखा. यह शिकायत भी आईजीआरएस पर है.

-महोली के विधायक शशांक त्रिवेदी के कानपुर रोड योजना के सेक्टर जे रेल नगर स्थित व्यावसायिक भूखंडों को कब्रिस्तान वालों के अनाधिकृत कब्जे से बचाने तथा इनकी नीलामी कराने की शिकायत भी आईजीआरएस पर दर्ज है.

28 मार्च से गोरखपुर-लखनऊ की पहली फ्लाइट, एयरपोर्ट अथॉरिटी ने शेड्यूल किया जारी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के अनुसार राज्य में शिकायत निवारण के लिए एक एकीकृत प्रणाली आईजीआरएस बनाई गई है जिसपर कोई भी शिकायत दर्ज करा सकता है. इसके लिए jansunwai.up.nic.in पर जा कर क्लिक करने पर शिकायत दर्ज कराने का पोर्टल खुल जाएगा. अधिकारी के अनुसार आईजीआरएस पर शिकायतें दर्ज होने के बाद इनकी नियमित मॉनिटरिंग होती है. जब तक शिकायत का समाधान नहीं होता, तब तक यह निस्तारित नहीं मानी जाती. निस्तारण के बाद भी फोन करके पूछा जाता है कि वह शिकायत के निस्तारण से संतुष्ट हैं या नहीं. संतुष्ट न होने पर शिकायत दोबारा जिंदा हो जाती है. इसी वजह से सबका विश्वास आईजीआरएस पर बढ़ा है.

योगी सरकार ने पुलिस प्रशासन में किए बदलाव, पंचायत चुनाव से पहले 56 DSP ट्रांसफर

 विधायक लखनऊ उत्तर विस क्षेत्र के विधायक डा. नीरज बोराकहते हैं कि जब नीचे के अधिकारी सुनवायी नहीं करते, तब राजा के पास जाना पड़ता है. हमने सीएम को जनता से जुड़े कामों के लिए पत्र लिखे. सीएम ने खुद ही इनमें से कई को आईजीआरएस पर दर्ज करवा दिया. ताकि इनकी नियमित मॉनिटरिंग होती रहे। इससे कई काम हुए हैं. वहीं सुरेश श्रीवास्तव, विधायक, लखनऊ पश्चिम विस क्षेत्र का कहना है कि हमने जनता से जुड़ी हुई शिकायतें कीं. सीएम को पत्र लिखे गए हैं, आईजीआरएस पर कई शिकायतें दर्ज हुईं हैं. राजाजीपुरम में जिन लोगों ने आवासीय में व्यावसायिक निर्माण किया है उनकी बिल्डिंग को रेगुलराइज कराने के लिए लिखा है. कुछ समस्याओं का निस्तारण भी हुआ है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें