8वीं का बच्चा अपनी क्लासमेट को विदेशी नंबर से भेजता था अश्लील मैसेज, जब पोल खुली…

Smart News Team, Last updated: Mon, 9th Aug 2021, 6:27 PM IST
  • लखनऊ में कक्षा 8वीं की छात्रा को उसका क्लासमेट और उसका बड़ा भाई अश्लील मैसेज भेजते थे. इस मामले में पीड़िता की मां ने पुलिस में शिकायत की और पुलिस ने दोनों आरोपियों की तलाश करके आरोपी नाबालिग छात्र और उसके बड़े भाई के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है.
नाबालिग छात्रा को क्लासमेट ही भेजता था अश्लील मैसेज, चार्जशीट दाखिल

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मड़ियांव में कक्षा 8वीं को छात्रा को दो सगे भाई अश्लील मैसेज भेजते थे. इसके साथ ही नाबालिग छात्रा को कई बार विदेशी नंबर से धमकी भरी कॉल भी आईं, इस मामले की जानकारी छात्रा ने अपनी मां को दी. फिर पीड़िता की मां ने इस घटना के बारे में पुलिस को बताया तो पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए 2 आरोपियों का पता लगा लिया है. इस मामले में पुलिस ने शनिवार को कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल कर दी है. हैरान करने वाली बात ये है कि ये दोनों आरोपी सगे भाई हैं और छोटा भाई पीड़िता का क्लासमेट है. दोनों भाई पीड़िता को विदेशी नम्बर से अश्लील मैसेज और कॉल करते थे. जब वह मना करती थी उसे उसे धमकियां दी जाती थीं.

जब इस मामले की पुलिस ने जांच की तो वह कॉल डिटेल से आरोपी के घर पहुंची. पुलिस को इन तक पहुंचने में काफी परेशानी हुई क्योंकि आरोपी मोबाइल पर टेक्सट नाऊ एप से लॉकल कॉल को विदेशी कॉल में बदल देते थे. हालांकि एक कॉल छात्रा को बेसिक नंबर से आई थी जिसकी पुलिस ने जांच की तो वह पलटन छावनी के युवक का नं निकला.

यहीं पुलिस को इस बात की जानकारी हुई कि छात्रा को जिस व्हाट्सएप नम्बर से मैसेज भेजे जा रहे थे वह नम्बर इसी युवक का छोटा भाई इस्तेमाल कर रहा है. यह छोटा भाई कोई और नहीं बल्कि पीड़िता के क्लास में ही पढ़ने वाल छात्र है. इस मामले में इंस्पेक्टर मड़ियांव मनोज कुमार सिंह ने बताया कि अब इन दोनों आरोपियों के खिलाफ आगे की कार्रवाई कोर्ट के आदेश के अनुसार की जायेगी. 

लखनऊ कैब ड्राइवर केस में युवती से हुई पूछताछ, कहा- नियम तोड़ने पर ड्राइवर को पीटा

बता दें कि यह पूरा मामला स्कूल के व्हाट्स एप ग्रुप से शुरू हुआ था. ऑनलाइन क्लास करने के लिये स्कूल के टीचर ने एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया था जिसमें कुछ छात्रों को भी एडमिन बनाया गया था. इसके बाद कुछ ऐसे नंबर भी ग्रपु में जुड़ गए जिसकी स्कूल प्रशासन को कोई जानकरी नहीं थी. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें