महिला संविदाकर्मी के साथ छेड़छाड़ मामले में अनुसचिव इच्छाराम निलंबित, कोर्ट से जमानत

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 8:06 AM IST
  • अल्पसंख्यक कल्याण विभाग अनुसचिव इच्छाराम यादव को शुक्रवार को महिला संविदाकर्मी के साथ छेड़छाड़ मामले के चलते निलंबिकट कर दिया गया. वहीं अनुसचिव इच्छाराम यादव की जमानत की अर्जी को शुक्रवार को अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने मंजूर कर लिया.
महिला संविदाकर्मी के साथ छेड़छाड़ मामले में अनुसचिव इच्छाराम निलंबित, कोर्ट से जमानत (FILE PHOTO)

लखनऊ. महिला संविदाकर्मी के साथ छेड़छाड़ और दुर्व्यवहार मामले में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग अनुसचिव इच्छाराम यादव निलंबित कर दिया गया है. जिन्हे ससपेंड करने का आदेश शुक्रवार को जारी किया गया. जिसे सचिवालय प्रशासन विभाग की तरफ से जारी किया गया. इसके साथ ही सचिवालय प्रशासन विभाग ने आरोपी अनुसचिव इच्छाराम यादव के खिलाफ उत्तर प्रदेश सेवक नियमावली के अनुसार विभागीय और अनुशासनिक कार्यवाही करने के भी आदेश जारी किया गया है.

वहीं दूसरी तरफ अनुसचिव इच्छाराम यादव की जमानत की अर्जी को अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट मंजूर कर लिया. जिसके चलते उन्हें कोर्ट से जमानत मिल गई है. सचिवालय प्रशासन विभाग के तरफ से जारी किए गए निलंबन के आदेश में कहा गया है कि संविदाकर्मी के साथ छेड़छाड़ और अभद्र व्यवहार के मामले में उपलब्ध कराए गए वीडियो से साफ होता है कि अनुसचिव इच्छाराम दोषी है. साथ ही यह भी लिखा है कि यह कृत्य उ.प्र. सरकारी (सेवक आचरण) नियमावली-1956 के नियमों का उल्लंघन है.

रामपुर में मच्छर मारने की क्वाइल लगाकर सो रहे युवक की धुएं से बिगड़ी हालत, अस्पताल में मौत

अनुसचिव इच्छाराम यादव के निलंबन पर उन्हें सिर्फ जीवन निर्वाह भत्ता यानि आधा वेतन ही दिया जाएगा. वहीं उन्हें इसके अलावा महंगाई भत्ता नहीं मिलेगा. सचिवालय प्रशासन विभाग द्वारा जारी किए गए इस आदेश की एक प्रति हुसैनगंज के थानाध्यक्ष को भी भेजा गया है. 

वहीं न्यायलय द्वारा जमानत देने पर उन्हें कुछ शर्तो के अधीन जमानत दिया गया है. जिसमें उन्हें अपने जमानतदारों का मोबाइल नंबर दाखिल कराना होगा. साथ ही अभियुक्त दौरान विचारण प्रत्येक तिथि पर स्वयं अथवा अपने अधिवक्ता के जरिये उपस्थित रहेगा. अभियुक्त द्वारा मामलें के साक्षियों को प्रभावित नहीं करेगा और न ही साक्ष्य में कोई छेडछाड करेगा. अभियुक्त आरोप विरचित होने के दौरान व बयान अन्तर्गत धारा 313 दं०प्र०सं० अंकन कराये जाने के समय वह व्यक्तिगत रूप से उपस्थित रहेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें