मिशन संवेदना शुरू, कोरोना से मरने वालों को मुफ्त में शमशान ले जाएगा शव वाहन

Smart News Team, Last updated: 01/05/2021 09:47 AM IST
  • कोरोना संक्रमण से किसी भी व्यक्ति की मौत के बाद उसके शव को शमशान तक पहुंचाने के लिए कोई भी वाहन या कोई सुविधा न मिलने पर लखनऊ के मनकामेश्वर मंदिर वार्ड के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मुफ्त में शव वाहन मुहैया कराने की जिम्मेदारी ली हैं.
मिशन संवेदना शुरू, कोरोना से मरने वालों को मुफ्त में शमशान ले जाएगा शव वाहन

लखनऊ। पूरे देश में कोरोना वायरस की इस महामारी के चलते हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है. हर तरफ लाशों का अंबार लगा हुआ लेकिन ऐसे हालात में कई ऐसे भी केस भी सामने आ रहे हैं, जहां कोरोना संक्रमण से होने वाली किसी भी व्यक्ति की मौत के बाद उसके शव को शमशान तक पहुंचाने के लिए कोई भी वाहन या कोई सुविधा नहीं मिलती है. ऐसे में लखनऊ के मनकामेश्वर मंदिर वार्ड के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मुफ्त में शव वाहन मुहैया कराने की जिम्मेदारी ली हैं.

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में लखनऊ में भयावह हो गई है. संक्रमण के आंकड़ों में अब तक 1799 लोग अपनी जान गवां चुके हैं. ऐसे में शहरवासियों के दिलों-दिमाग पर कोरोना का इतना डर छाया हुआ है कि मरीज के मरने के बाद भी परिजन भी शव ले जाने में आनाकानी कर रहे हैं.

CM योगी की नई रणनीति! लोगों को सहायता देने के लिए टीम-9 को दी पूरी जिम्मेदारी

कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद से किसी एंबुलेंस या प्राइवेट अस्पतालों मे मौजूद वाहन शव को शमशान घाट पहुंचाने के लिए बहुत अधिक पैसे मांग रहे हैं. ऐसे माहौल में इतने अधिक पैसे न जुटा पाने के कारण बहुत से लोग अपनों के शव को किसी प्राइवेट वाहन या अलग अलग तरीकों से ले कर शमशान घाट पहुंच रहे हैं और उनकी अंतिम क्रिया का भी खुद ही इंतजाम कर रहे हैं.

1 मई को UP के इन 7 जिलों में होगा 18+ वालों का टीकाकरण, क्या आपका शहर है शामिल

इस महामारी के दौर में जब किसी गरीब का कोरोना या फिर दूसरी बीमारी के चलते निधन हो रहा है. लोग अंतिम संस्कार करने के लिए शव को शमशान घाट पहुंचाने के लिए पैसे का इंतजाम नहीं कर पा रहे हैं. ऐसी हालत में इन लोगों ने लोगों को पैसे भेजने के साथ साथ मनकामेश्वर मंदिर वार्ड के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने एक जनता के हित में घर घर में यह अहम कदम उठाते हुए शव वाहन मुफ्त मुहैया कराने का फैसला किया है. यह वाहन सुविधा केवल लखनऊ के लिए होगी, जिसके लिए मिशन संवेदना की शुरुआत की गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें