बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को सपा-सुभासपा का साथ, ओम प्रकाश राजभर ने किया ऐलान

ABHINAV AZAD, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 7:56 AM IST
  • सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने कहा है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मऊ सीट से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को सपा-सुभासपा गठबंधन का समर्थन मिलेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि यह मुख्तार अंसारी पर निर्भर करता है कि वह सुभासपा उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ते हैं या निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर.
ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि विधायक मुख्तार अंसारी को सपा-सुभासपा गठबंधन का समर्थन मिलेगा.

लखनऊ. आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मऊ सीट से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को सपा-सुभासपा गठबंधन का समर्थन मिलेगा. दरअसल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने यह घोषणा की है. गुरूवार को सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि विधायक मुख्तार अंसारी से दो दिन पहले उनकी बांदा जेल में मुलाकात हुई थी. उन्होंने मुख्तार अंसारी का खुलकर समर्थन करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा के होने वाले चुनाव में सपा और सुभासपा गठबंधन की तरफ से मुख्तार अंसारी को समर्थन दिया जाएगा.

साथ ही राजभर ने कहा कि यह मुख्तार अंसारी पर निर्भर करता है कि वह सुभासपा उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ते हैं या निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर. जब सुभासपा अध्यक्ष राजभर से यह पूछा गया कि क्या समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव मुख्तार अंसारी को समर्थन देने पर तैयार होंगे, तो राजभर ने कहा कि सरकार बनानी है तो समर्थन देने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि जब अखिलेश यादव मायावती से गठबंधन कर सकते हैं तो फिर मुख्तार अंसारी को समर्थन देने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

यूपी में BJP ज्वाइनिंग कमेटी का गठन, लक्ष्मीकांत बाजपेयी समेत ये दिग्गज शामिल

दरअसल, सुभासपा अध्यक्ष राजभर का यह ऐलान सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के मुक्तार को लेकर पूर्व रूख को देखते हुए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. बताते चलें कि सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी से मुलाकात की. जिसके बाद उन्होंने मुख्तार अंसारी का खुलकर समर्थन करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा के होने वाले चुनाव में सपा और सुभासपा गठबंधन की तरफ से मुख्तार अंसारी को समर्थन दिया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि जब अखिलेश यादव मायावती से गठबंधन कर सकते हैं तो फिर मुख्तार अंसारी को समर्थन देने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें