जेल में फोन चलाता था जेलर का राइटर, दूसरे कैदियों की भी कराई ऐश, पोल खुली तो…

Smart News Team, Last updated: 19/11/2020 08:45 PM IST
  • लखनऊ के जिला जेल में दिवाली के आसपास मोबाइल फोन बरामद किया गया है. मोबाइल फोन उपयोग करने वाला जेलर का राइटर है. जेल अधिकारीयों ने उसके पास से मोबाइल बरामद कर हाई सिक्युरिटी बैरक में रखा है साथ ही अन्य जेलर के राइटरों को भी हाई सिक्युरिटी बैरक में रखा गया है.
लखनऊ जिला जेल में कैदी के पास मिला मोबाइल फोन

लखनऊ के जिला जेल में शुक्रवार को मोबाइल बरामद किया गया. मोबाइल कोई और नहीं बल्कि जेलर का राइटर (बंदी) उपयोग करा था. वह खुद तो बात करता ही था साथी ही जेल के अन्य कैदियों की भी बात करता था. जेलर का राइटर बात कराने के एवज में उनसे सुविधा शुल्क भी लिया करता था. जब इसकी भनक जेल अधिकारियों को लगी तो उसके पास से मोबाइल बरामद किया. जिसके बाद उसे जेल के हाई सिक्योरिटी बैरक में बंद करा दिया गया. जब यह बात जेल के उच्चाधिकारियों को पता चली तब बंदी की पिटाई अधिकारियों ने इस कदर की वह बुरी तरह से घायल हो गया.

पूर्व CM और BSP चीफ मायावती के पिता का निधन, दिल्ली में होगा अंतिम संस्कार

जेलर का राइटर अंकित मिश्रा करीब 3 साल पहले हत्या के मामले में जेल आया था. उसे पिछले साल जेल कार्यालय का जेलर बनाया गया था. उसे जेलर का राइटर पिछले जेलर रहे अरुण मिश्रा ने बनाया था. जब बंदी अंकित से मोबाइल के बारे में पूछताछ किया गया उसने बताया कि वह मोबाइल का उपयोग पिछले जेलर रहे अरुण मिश्रा के समय से कर रहा है. अंकित के साथ साथ जेल के दो दर्जन राइटरों को भी हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया है. जेल में बरामद होने की घटना दीपावली के आसपास की है.

गुपकर समझौते पर बोले CM योगी आदित्यनाथ- धारा 370 पर अपना रुख साफ करे कांग्रेस

जेल के अधीक्षक आशीष तिवारी ने अंकित के बारे में बताया कि जब से उसे जेल के राइटर का पद मिला था तबसे वह अपने आपको जेलर से कम नहीं समझता था. उन्होंने आगे बताया कि वह बंदीरक्षकों और डिप्टी जेलरों से बड़े अर्दब के साथ बात करता था. साथ ही वह दूसरे कैदीयों पर हमेसा जेलर वाले रौब झाड़ा करता था. अंकित ही जेल के सभी वित्तीय लेनदेन को भी देखता था. उन्होंने जेल में मोबाइल फोन उपयोग करने के बारे में बताया कि अंकित के पास से मोबाइल का चार्जर बरामद किया गया है और साथ ही अंकित से पूछताछ करके मोबाइल की तलाश किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें