मनमाना शुल्क वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों की अब खैर नहीं, वाहन सीज कर होगी FIR

Smart News Team, Last updated: Thu, 13th May 2021, 1:28 PM IST
लखनऊ में तय रेट से अधिक शुल्क वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों के खिलाफ मॉनिटरिंग सेल का गठन किया गया है. प्रशासन की ओर से जारी किए गए नंबर पर शिकायत आने पर समझाइश के बाद भी नहीं मानने वाले चालकों का वाहन सीज कर उनके खिलाफ एफआईआर की जाएगी.
तय रेट से अधिक शुल्क वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

लखनऊ. राजधानी में तय रेट से अधिक शुल्क वसूलने वाले एंबुलेंस चालकों के खिलाफ प्रशासन ने सख्ती दिखाते हुए मॉनिटरिंग सेल का गठन किया है. यह सेल अधिक शुल्क लेने या उसकी मांग करने वाले एम्बुलेंस चालकों पर निगरानी रखकर कार्रवाई करने का काम करेगी. दरअसल, जिला प्रशासन की ओर से बीते शुक्रवार को जारी किए गए आदेश के बाद भी कई एम्बुलेंस चालक मरीजों के परिजनों से अधिक शुल्क वसूल रहे हैं. इसको देखते हुए प्रशासन में इस सेल का गठन किया है.

जानकारी के अनुसार मनमाना शुल्क वसूलने वाले एम्बुलेंस चालकों और उनके मालिकों पर निगरानी रखने के लिए उच्चाधिकारियों के निर्देश पर 3 विभागों को जोड़कर मॉनिटरिंग सेल का गठन किया गया है. गौरतलब है कि जिला प्रशासन द्वारा गठित की गई इस मॉनिटरिंग सेल में नगर निगम, आरटीओ विभाग और ट्रैफिक पुलिस को जोड़ा गया है. सेल से जुड़े तीनों विभाग अपने-अपने स्तर से एम्बुलेंस चालकों पर निगरानी रखने के साथ कार्रवाई करने का काम करेंगे. इस सेल की नोडल अधिकारी डीसीपी ट्रैफिक ख्याति गर्ग को बनाया गया है.

थाई युवती की मौत मामले में आरोपी नेताओं से पूछताछ के लिए नोटिस भेजेगी UP पुलिस

बताते चलें कि एम्बुलेंस चालकों पर कार्रवाई करने के साथ मरीज के तीमारदारों की सहायता के लिए ट्रैफिक कंट्रोल रूम (9454405155) और यूपी पुलिस कंट्रोल रूम (112) का नम्बर जारी किया गया है जिस पर लोगों द्वारा तत्काल शिकायत की जा सकती है. जानकारी के अनुसार तीमारदारों की ओर से एम्बुलेंस चालक के खिलाफ मनमाना शुल्क वसूलने की शिकायत आने पर पुलिसकर्मियों को मौके पर भेजा जाएगा. ये पुलिसकर्मी मौजूदा हालातों को देखते हुए चालक को समझाने का प्रयास करेंगे. इसके बाद भी नहीं मानने पर सबसे पहले मरीज को अस्पताल पहुंचाने के लिए नगर निगम, आरटीओ विभाग और ट्रैफिक पुलिस के माध्यम से किसी वाहन की व्यवस्था की जाएगी जिससे मरीज को सही समय पर इलाज मिल सके. उसके बाद एम्बुलेंस चालक का डीएल जब्त कर उसे निरस्त करने का काम किया जाएगा. इसके अलावा उस एम्बुलेंस को सीज कर मनमाना शुल्क वसूलने वाले चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें