सिर्फ बच्चा पैदा करना जानते हैं मुसलमान, योगी के मंत्री बलदेव सिंह औलख का विवादित बयान

Atul Gupta, Last updated: Tue, 21st Dec 2021, 3:14 PM IST
  • योगी कैबिनेट के मंत्री बलदेव सिंह औलख ने मुसलमानों को लेकर विवादित बयान देकर नया विवाद पैदा कर दिया है. औलख ने कहा कि मुसलमानों को सिर्फ बच्चा पैदा करना आता है, बच्चों की पढ़ाई-लिखाई या उनके विकास से उन्हें कोई मतलब नहीं है.
यूपी सरकार में जल शक्ति मंत्री बलदेव सिंह औलख (फोटो- सोशल मीडिया)

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले सीएम योगी आदित्यनाथ कैबिनेट के मंत्री बलदेव सिंह औलख ने मुसलमानों को लेकर विवादित बयान देकर नया सियासी विवाद पैदा कर दिया है. योगी कैबिनेट में जल शक्ति मंत्री बलदेव सिंह औलख ने कहा कि मुसलमानों को सिर्फ बच्चा पैदा करना आता है. यूपी के बिलासपुर से बीजेपी विधायक औलख ने कहा कि मुस्लिम समाज के लोगों को सिर्फ खाना,पीना और बच्चे पैदा करना आता है.. पढ़ाई-लिखाई या बच्चों का विकास मुसलमानों की प्राथमिक्ता कभी रही ही नहीं.

लड़कियों की शादी की उम्र 18 से 21 साल किए जाने के मोदी सरकार के फैसले पर समाजवादी पार्टी नेता की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए औलख ने पत्रकारों से कहा कि सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने एक बार रेप जैसे जघन्य अपराध को लेकर कहा था कि लड़कों से गलतियां हो जाती हैं, ऐसे में उनके नेताओं से और किस तरह के बयान की आप उम्मीद करते हैं. लड़कियों की उम्र 18 से 21 किए जाने के मोदी सरकार के फैसले के खिलाफ बयान दे रहे विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए औलख ने कहा कि सपा सांसद कहते हैं कि लड़कियों की शादी की उम्र बढ़ने से वो मनमौजी हो जाएंगी. उन्हें कोई हक नहीं बनता कि वो हमारे बेटियों के बारे में ऐसी बातें करें.

गौरतलब है कि सपा सांसद टी हसन ने लड़कियों की शादी की उम्र 18 से 21 किए जाने का विरोध करते हुए कहा था कि जब लड़कियां प्रजनन की उम्र पार कर लें तो उनकी शादी कर देनी चाहिए. उन्होंने आगे कहा था कि महिलाओं को प्रजनन की उम्र 16-17 साल से लेकर 30 साल तक होती है. लड़कियों के रिश्ते 16 साल से आने शुरू हो जाते हैं. उन्होंने कहा कि अगर शादी में देरी होती है तो दो नुकसान होते हैं. पहला इनफर्टिलिटी की संभावना बढ़ जाती है. दूसरा जबतक वो बुजुर्ग होते हैं तबतक बच्चे छोटे ही रह जाते हैं और जब वो अपने जिंदगी के आखिरी चरण पर होते हैं तो उनके बच्चे पढ़ ही रहे होते हैं. उन्होंने कहा कि हम प्रकृति के चक्र को तोड़ रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें