गृहमंत्री अमित शाह से मिलने के बाद फिर उठाई संजय निषाद ने डिप्टी सीएम पद की मांग

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Jul 2021, 1:43 PM IST
  • निषाद पार्टी के अध्यक्ष दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर वापस गोरखपुर लौट आए हैं. अमित शाह से मिलने के बाद एक बार फिर उन्होनें यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में डिप्टी सीएम पद की मांग उठा दी है. 
संजय निषाद ने फिर उठाई डिप्टी सीएम पद की मांग.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव करीब आते ही राज्य में राजनीतिक घमासान देखने को मिल रहे हैं. निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद ने एक बार फिर डिप्टी सीएम पद की मांग उठा दी है. दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात करने के बाद यूपी के आगामी विधानसभा चुनाव में उपमुख्यमंत्री पद की डिमांड फिर से उठा दी है. संजय निषाद का कहना है कि ये मांग उनके कार्यकर्ताओं की हैं. निषाद पार्टी के अध्यक्ष का दावा है कि यूपी में 160 सीटें निषाद बाहुल्य हैं. संजय निषाद ने कहा कि साल 2014 के चुनाव में जिन पार्टियों ने निषादों का साथ छोड़ा वो हाशिए पर चली गईं. कांग्रेस, बसपा और सपा का हश्र सबके सामने हैं. निषाद पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा मित्रता का फर्ज अदा कर निषाद और उनकी उपजातियों को आरक्षण देकर अपना वादा पूरा करे.

टीवी चैनल एबीपी गंगा की रिपोर्ट के अनुसार संजय निषाद गुरुवार को अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात करने के बाद गोरखपुर पहुंचे. उन्होनें कहा कि निषाद समाज ने भगवान श्रीराम का साथ दिया. इसी वजह से निषाद बीजेपी के साथ गए. हमारा आरक्षण का मुद्दा है. 70 साल सभी पार्टियों ने ठगा है. किसी ने कुछ नहीं किया. बीजेपी की मंशा साफ है, हमारे प्रति इनके विचार अच्छे हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हमारे मुद्दों को एक दर्जन बार सदन में उठाया है. 

संजय निषाद की BJP से बड़ी डिमांड- UP विधानसभा चुनाव में बनाए डिप्टी CM का चेहरा 

संजय निषाद का कहना है कि भाजपा ने उनके लिए सामाजिक न्याय समिति बनाऊ है. उसमें लिखा है कि 23 प्रतिशत आरक्षण में सबका हक है. दिल्ली में जेपी नड्डा और अमित शाह के सामने उन्होनें मुद्दा उठाया कि वह पिछड़ी जाति में नहीं हैं. 1992 में उन्हें जबरदस्ती पिछड़ी जाति में डाल दिया गया था. संजय निषाद ने कहा कि हमारी बात से गृहमंत्री और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष सहमत हैं. इसे स्वीकार भी किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें