Bharat Bandh: UP में 8 दिसंबर को किसान प्रर्दशन के बीच जानें क्या बंद, क्या खुला

Smart News Team, Last updated: 07/12/2020 10:22 PM IST
कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के भारत बंद को लेकर कई राजनीतिक दलों ने उनका समर्थन भी दे दिया है. इसी क्रम में आम दिनचर्या में ज़रुरतों के सामान को लेकर कई चीजें मिलेंगी और कुछ नहीं. लेकिन, बेहद आवश्यकों चीजों को खुला रहने और उनके पूर्ति की जाएगी.
सिंघु बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ होते किसान आंदोलन की एक झलक

लखनऊ: केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-यूपी के बीच स्थित सिंघु बॉर्डर पर डेरा जमाए किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है. जिसे कई राजनीतिक दलों ने भी अपना समर्थन दिया. इस क्रम में पूरे भारत में चक्का जाम और सब्जी, दूध की सुविधा भी नहीं मिल पाएगी. आपको बता दें कि देशभर से आए किसानों का सोमवार को धरने पर बैठते हुए 12 दिन पूरे हो जाएंगे.

वहीं, अब इस भारत बंद को किसान संगठनों ने देश वासियों से इस बंदी पर अपना समर्थन देने को कहा है. वहीं, किसानों के साथ जमे राजनेता योगेंद्र यादव ने कहा है कि आठ तारीख को सुबह से शाम तक भारत बंद रहेगा. साथ ही चक्का जाम शाम तीन बजे तक रहेगा. इस कारण दूध, फल, सब्जी पर रोक रहेगी. लेकिन, शादियों, एंबुलेंस और इमरजेंसी कार्यों पर किसी तरह की रोक नहीं रहने वाली है. साथ ही चक्का जाम दोपहर तीन बजे तक होगा.

कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के भारत बंद का BSP चीफ मायावती ने किया समर्थन

इनके अलावा सिंघु बॉर्डर से किसान नेता राकेश टिकैत ने भी जानकारी देते हुए कहा है कि जैसे जन समर्थन मिल रहा है वैसे तो पूरी तरह से बंदी में सफलता मिलना तय है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि आम जन मंगलवार की सुबह 10 बजे से पहले ऑफिस जा सकती है. टिकैत ने अपनी बातों को विस्तार देते हुए कहा कि जो जहां संभव हो वहां बंद करे. इसके तहत लोग अपना गांव और अपनी सड़क के पास पड़ने वाले हाईवे पर बैठें. यह भी कहा दुकानदार लंच के बाद दुकान खोलें.

लखनऊ में हिरासत में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बोले-भाजपा कर रही लोकतंत्र की हत्या

लखनऊ में हिरासत में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, बोले-भाजपा कर रही लोकतंत्र की हत्या

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें