ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों ने पहुंचाया खुदरा कारोबार को नुकसान, व्यापारियों में रोष

Smart News Team, Last updated: Mon, 11th Jan 2021, 5:09 PM IST
  • गत रविवार राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन की कार्यसमिति की बैठक आलमबाग में संपन्न हुई. जिसमे घरेलू खुदरा व्यापार को बचाने के लिए अलग अलग मांग केंद्रीय आम बजट के पहले सरकार के सामने रखी गई. बैठक में संगठन के अध्यक्ष अमित गुप्ता ने व्यापारी राहत कोष की स्थापना की मांग भी रखी.
ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों ने पहुंचाया खुदरा कारोबार को नुकसान, व्यापारियों में रोष

लखनऊ: राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन की प्रांतीय कार्य समिति की बैठक रविवार को आलमबाग के एक होटल में संपन्न हुई. यह बैठक आ रही केंद्रीय आम बजट को ध्यान में रखते हुए किया गया. जिसमे देश के खुदरा व्यापार और एमएसएमई सेक्टर मे आ रही समस्याओं और उससे राहत दिलाने की मांग रखी गई.

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मनीष अग्रवाल ने समस्याओं पर बात करते हुए कहा कि ऑनलाईन ई- कॉमर्स के बढ़ने से घरेलू पारंपरिक खुदरा व्यापार को काफ़ी धक्का लगा है. इसे बचाने के लिए ई- कॉमर्स के कुल व्यापार पर 18 प्रतिशत का विशेष कर लगाया जाय, जिससे घरेलू खुदरा व्यापार बाज़ार में प्रतिस्पर्धा मे बनी रह सके.

लखनऊ: अभ्यर्थियों ने राष्ट्रपति व राज्यपाल को लिखा पत्र, इच्छा मृत्यु मांगी

इसके आलावा बैठक मे ये भी मांग रखा गया कि कॉरपोरेट की तरह पार्टनरशिप फर्म और लिमिटेड लईबलिटी पार्टनरशिप को भी 30 प्रतिशत से घटा कर 22 प्रतिशत पर लाया जाय. साथ ही साथ ये भी बोला गया कि वर्तमान समय मे व्यापारी अपना व्यापार जारी रख सकें इसके लिए ट्रेडर्स लोन पर ब्याज में सबवेंशन लघु की जाए.

VIDEO: स्याही हमले से भड़के आप MLA सोमनाथ भारती, बोले- योगी की मौत सुनिश्चित है

राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के अध्यक्ष और बैठक के मुख्य अतिथि अमित गुप्ता ने केंद्रीय बजट में व्यापारियों को राहत दिलाने के लिए व्यापारी राहत कोष की स्थापना की मांग रखी गई.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें