यूपी में स्कूली बसों और टैक्सियों में लगाए जाएंगे पैनिक बटन और ट्रैकिंग सिस्टम

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Mar 2021, 1:59 PM IST
  • परिवहन विभाग प्रदेश में पिंक बस सेवा के बाद स्कूली बच्चों और आमजनों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए स्कूली वाहनों के साथ ही साथ आम टैक्सियों में भी पैनिक बटन और वीटीएस (व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम) लगाए जाने की कवायद शुरू की जा रही है.
यूपी में स्कूली बसों और टैक्सियों में लगाए जाएंगे पैनिक बटन और ट्रैकिंग सिस्टम

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शुरू की गई पिंक बस सेवा के बाद स्कूली बच्चों और आमजनों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए परिवहन विभाग बड़ा कदम उठाने जा रहे है. इस कदम के तहत स्कूली वाहनों के साथ ही साथ आम टैक्सियों में भी पैनिक बटन और वीटीएस (व्हीकल ट्रैकिंग सिस्टम) लगाए जाने की कवायद शुरू की जा रही है. परिवहन विभाग ने प्रदेश में चल रही टैक्सियों और स्कूली बसों में लोकेशन ट्रैक करने वाली डिवाइस यानी वीटीएस और पैनिक बटन को लगवाने का फैसला किया है. वाहनों में लगे पैनिक बटन को सीधा डायल-112 से जोड़ा जाएगा.

निर्भया योजना के तहत यह ठोस कदम उठाए जाएगा. इसके लिए परिवहन मुख्यालय में एक कंट्रोल रूम भी तैयार किया जाएगा. वाहन में लगे पैनिक बटन को दबाते ही कंट्रोल रूम की टीम किस प्रकार काम करेगी, कितने समय में कंट्रोल रूम को सूचना देने पर रेस्पांस मिलेगा और डायल -112 क्या एक्शन करेगी, इन सभी पहलुओं पर विचार करते हुए इस योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है. टैक्सियों और स्कूली बसों में इस तकनीक का इस्तेमाल कर बाकायदा मॉनिटरिंग की जाएगी.

PM आवास योजना के डाउन पेमेंट के लिए आवंटियों को बैंकों से मिलेगा लोन

एआरटीओ के मुख्यालय के अधिकारी कमल जोशी ने कहा कि अभी निर्भया मद से आई पिंक बसों में ही पैनिक बटन है. वहीं वीटीएस भी रोडवेज बसों में ही है. परिवहन निगम मुख्यालय में बने कंट्रोल रूम से इसकी मानीटरिंग की जाती है. अन्य कमर्शियल वाहनों में इस तकनीक का पूरी तरह इस्तेमाल नहीं हुआ है.

यूपी पंचायत चुनाव में बढ़ सकती है उम्मीदवारों की संख्या, जानें क्या है वजह

उन्होंने आगे कहा कि विभाग की मंशा है कि हर दृष्टि से सफर सुरक्षित रहे. चाहे यात्री हों या फिर स्कूली बच्चे और अन्य लोग. इसको लेकर टैक्सियों और स्कूल वाहनों में आमजन की सुरक्षा पुख्ता करने की दिशा में काम चल रहा है. बजट पर सहमति हो गई है. जल्द ही इस कार्य को अंतिम रूप दिया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें