यूपी: 27 मेडिकल कॉलेज के ICU में टेली-मेडिसिन से इलाज करेंगे PGI लखनऊ के डॉक्टर

Shubham Bajpai, Last updated: Thu, 11th Nov 2021, 10:31 PM IST
  • अब प्रदेश के 27 मेडिकल कॉलेज में पीजीआई के डॉक्टर इलाज करेंगे. इसके लिए जल्द ही टेलीमेडिसिन की सुविधा की शुरुआत की जा रही है. इसलेक लिए प्रदेश सरकार ने पीजीआई निदेशक से इसका प्रस्ताव मांगा है. जल्द ही प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में भर्ती मरीजों का आसानी से विशेषज्ञ डॉक्टर इलाज कर सकेंगे.
यूपी: 27 मेडिकल कॉलेज के ICU में टेली-मेडिसिन से इलाज करेंगे PGI लखनऊ के डॉक्टर

लखनऊ. अब प्रदेश में विशेषज्ञ डॉक्टरों से इलाज कराने के लिए प्रदेशवासियों को लखनऊ स्थित संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (पीजीआई) के चक्कर नहीं लगाने होंगे. प्रदेश की योगी सरकार जल्द ऐसी व्यवस्था करने जा रही है कि मरीज को अपने जिले के मेडिकल कॉलेज में आसानी से पीजीआई के विशेषज्ञ डॉक्टरों का इलाज मिल जाएगा.

इसके लिए प्रदेश 27 मेडिकल कॉलेज में टेली मेडिसिन के जरिए लखनऊ पीजीआई के डॉक्टर आईसीयू में भर्ती मरीजों का इलाज करेंगे.

लखनऊ में अवैध कब्जा हटाने गई LDA टीम पर हमला, पथराव पिटाई में JCB ड्राइवर की मौत

शासन ने मांगा प्रस्ताव

इस संबंध में पीजीआई निदेशक डॉ. आर के धीमान ने प्रेसवार्ता कर जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इस संबंध में शासन की ओर से प्रस्ताव मांगा गया है. अब इसके प्रस्ताव को लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है जल्द ही प्रस्ताव तैयार कर रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी. जिसके बाद प्रस्ताव पास होने के बाद प्रदेश के 27 मेडिकल कॉलेज को टेलीमेडिसिन के माध्यम से पीजीआई के विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा इलाज मिल सकेगा.

लखनऊ: दिल्ली CM केजरीवाल 28 नवंबर को संबोधित करेंगे AAP की रोजगार गारंटी रैली

आईसीयू में भर्ती मरीजों को मिलेगी सुविधा

आईसीयू निदेशक ने बताया कि शुक्रवार को टेलीमेडिसिन पर तीन दिन की कांफ्रेस की जा रही है. जिसके बाद इसको लेकर भी काम शुरू किया जाएगा. इस सुविधा का लाभ प्रदेश के मेडिकल कॉलेज में भर्ती आईसीयू मरीजों को मिलेगा. इन मरीजों के इलाज में पीजीआई के डॉक्टर टेली मेडिसिन के माध्यम से मदद करेंगे.

इन जिलों में पहले चरण में शुरू होगी टेलीमेडिसिन सुविधा

पहले चरण में गोरखपुर, प्रयागराज, कानपुर, झांसी, आगरा और मेरठ के मेडिकल कॉलेज को जोड़ने का काम शुरू किया जाएगा. जिसके बाद अन्य मेडिकल कॉलेज को दूसरे चरण में जोड़ा जाएगा. इन मेडिकल कॉलजे में उपकरण और संसाधन की मदद जेम पोर्टल के जरिए की जाएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें