PGI Lucknow: ड्यूटी में तैनात होमगार्ड की बिगड़ी तबीयत, डॉक्टर ने नहीं किया भर्ती, मौत

Uttam Kumar, Last updated: Mon, 3rd Jan 2022, 9:15 AM IST
  • पीजीआई में डॉक्टरों की सुरक्षा में तैनात गार्ड की तबीयत खराब होने पर अपने अस्पताल में बेड और इलाज नहीं मिलने के कारण मौत हो गई. पीजीआई निदेशक डॉ. आरके धीमन ने इस घटना पर संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं.
पीजीआई में डॉक्टरों की सुरक्षा में तैनात गार्ड की तबीयत खराब होने पर अपने अस्पताल में बेड और इलाज नहीं मिलने के कारण मौत हो गई.(फाइल फोटो)

लखनऊ: पीजीआई प्रशासन की लापरवाही के चलते रविवार को डॉक्टरों की सुरक्षा में तैनात होमगार्ड मिथिलेश (50 वर्ष) की मौत हो गई. पारा निवासी मिथेलेश जिस अस्पताल के डॉक्टरों के आवास की सुरक्षा में तैनात थे, तबीयत बिगड़ने पर ना तो उन्हें उस अस्पताल में बेड मिल ना ही किसी डॉक्टर ने उन्हें देखना मुनासिब समझा. होमगार्ड अपने सहयोगी के साथ करीब डेढ़ घंटे तक इलाज के लिए पीजीआई की इमरजेंसी और पुरानी ओपीडी में बने होल्डिंग एरिया के चक्कर काटते रहे. डॉक्टर के सामने गिड़गिड़ाते रहे कि डॉक्टर साहब आपकी सुरक्षा में ड्यूटी के दौरान साथी की तबीयत बिगड़ी है, भर्ती कर इलाज दे दें लेकिन डॉक्टर नहीं पसीजे.  

अपने अस्पताल में बेड नहीं मिलने पर सहयोगी मिथलेश को कानपुर रोड स्थित लोक बंधु अस्पताल ले गए. जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. जिला कमाण्डेंट ने अस्पताल पहुंच कर शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है. बताया गया कि मिथलेश एक जनवरी को डॉक्टरों की आवास के सुरक्षा में रात की ड्यूटी पर तैनात था. रविवार सुबह में मिथलेश के पेट और सीने में अचानक दर्द होने लगा. दर्द बर्दाश्त न होने पर वह परिसर में स्थित होमगार्ड कन्ट्रोल रूम में मौजूद सहयोगी संतोष मिश्रा, सियाराम व रविन्द्र शंकर मिथलेश को बताया कि उसे ठण्ड लग गई है. 

Covid-19 child vaccination: आज से 15-18 साल के बच्चों का होगा वैक्सीनेशन, होगी ये व्यवस्था

मिथलेश को सांस लेने में तकलीफ बढ़ने पर सहयोगी पहले पीजीआई की इमरजेंसी वर्ड में लेकर गए. डॉक्टरों ने कोरोना जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए उसे बिना इलाज के होल्डिंग एरिया में भेज दिया. यहां के डॉक्टरों ने बेड उपलब्ध न होने की बात कहकर भर्ती करने से मना कर दिया. जिसके बाद उनके सहयोगी इलाज कके लिए मिथलेश को लोकबंधु अस्पताल ले जा रहे थे. बीच रास्ते में मिथलेश की मौत हो गई. 

निदेशक ने जांच के आदेश दिए

पीजीआई निदेशक डॉ. आरके धीमन ने इस घटना पर संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं. उन्होंने पूरे मामले की जांच रिपोर्ट सुरक्षा अधिकारी एके सिंह से मांगी है. डॉ. धीमन के अनुसार जांच में दोषी पाएं जाने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. वहीं रणजीत सिंह, डीआईजी, होमगार्ड मुख्यालय  के अनुसार होमगार्ड मिथलेश की पीजीआई में ड्यूटी के दौरान तबीयत बिगड़ने से मौत हुई है. मृतक के परिजन को विभाग द्वारा मिलने वाली मदद मुहैया करायी जाएगी. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें