मोदी सरकार ने PM किसान योजना में किया बड़ा बदलाव, किसानों की यह सुविधा हुई खत्म

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 13th Jan 2022, 10:26 AM IST
  • पीएम किसान सम्मान निधि योजना में एक बड़ा बदलाव हुआ है, यह बदलाव भारत के करीब 12 करोड़ से अधिक किसानों पर सीधा असर डालेगा. इस बदलाव ने किसानों से पीएम किसान सम्मान निधि योजना की खास खुविधा खत्म कर दी है.
पीएम किसान योजना में बड़ा बदलाव

लखनऊ. मोदी सरकार ने उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पीएम किसान सम्मान निधि योजना में बड़ा बदलाव किया है. इस बदलाव से 12 करोड़ 44 लाख से अधिक किसानों पर सीधा असर होगा. मोदी सरकार द्वारा हुए नए बदलाव में अब आप पीएम किसान पोर्टल पर अपने मोबाइल नंबर से अपना स्टेटस नहीं देख पाएंगे. इस बदलाव को इसलिए लागू किया गया है कि पहले किसानों को डेटा को हर कोई मोबाइल नंबर डालकर चेक कर लेता था. हालांकि अब ऐसा नहीं होगा अब सिर्फ आधार कार्ड नंबर से ही अपना किसान सम्मान निधि का स्टेटस देख सकते हैं. बता दें कि पहले पीएम किसान पोर्टल पर आप रजिस्ट्रेशन के बाद अपना स्टेटस खुद मोबाइल नंबर, आधार नंबर या बैंक खाता डालकर चेक कर सकते थे, जिसमें आप अपने आवेदन की स्थिति, बैंक अकाउंट की किस्त लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.

अब पीएम किसान पोर्टल पर हुए बदलाव अब आप मोबाइल नंबर से अपना स्टेटस नहीं देख पाएंगे. इस स्टेटस को देखने के लिए आपको अब आधार नंबर अथवा बैंक अकाउंट नंबर की जरुरत होगी तभी आप अपना स्टेटस जान पाएंगे. पीएम किसान सम्मान निधि जब से लागू हुई है तब से इसमें कई बदलाव हुए हैं. हाल ही में किसानों के लिए ई केवाईसी करना जरुरी करा था. वहीं अब पीएम किसान सम्मान निधि पोर्टल के अनुसार इस योजना में आने वाले रजिस्टर्ड किसानों की संख्या 12.44 करोड़ हो गई है.

मृत किसानों को नहीं मिलेगा पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ, डाटा डिलीट करने का आदेश जारी

हाल ही में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 जनवरी 2022 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 10वीं किस्त जारी की थी. इससे 10 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसान परिवारों को 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खातों में भेजी गई थी. पीएम किसान सम्मान निधि योजना 1 दिसंबर, 2018 से शुरू हुई थी और इस योजना में छोटे और सीमांत किसान परिवारों को प्रति वर्ष 6,000 रुपये मिलते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें