PM मोदी के भाई लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने पर बैठे, अनशन की दी चेतावनी, जानें वजह

Smart News Team, Last updated: 03/02/2021 08:53 PM IST
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाई प्रहलाद मोदी के आयोजकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. अपने साथियों को रिहा करने की मांग को लेकर प्रहलाद मोदी लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट पर धरने पर बैठे और अनशन की चेतावनी भी दी.
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट पर धरने पर बैठे.

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाई प्रहलाद मोदी बुधवार को लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट पर धरने पर बैठ गए हैं. दरअसल, प्रहलाद मोदी बुधवार दोपहर को एयरपोर्ट पहुंचे. उनको रिसीव करने वाले सहयोगियों को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है. प्रहलाद मोदी ने उनके रिहा की मांग को लेकर एयरपोर्ट पर धरने वर बैठ गए. उन्होंने सहयोगियों को रिहा न करने पर अन्न-जल त्यागकर अनशन की चेतावनी दी है.

इस बारे में प्रहलाद मोदी ने कहा कि मुझे रिसीव करने के लिए जो लोग आ रहे थे, उन सबको पुलिस ने पकड़ लिया है. थाने में बैठा दिया गया है. उन पर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी चल रही है. मुझे लगा कि मेरे बच्चे जेल में रहें और मैं बाहर रहूं, ये ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि उनको मुक्त करो वरना मैं एयरपोर्ट पर अनशन पर बैठ गया हूं, खाना पीना छोड़ दिया है.

केन्द्र सरकार की तरह UP सरकार पेश करेगी पेपरलेस बजट, विधायकों को दिए जाएंगे टैबलेट

ये वाक्या लखनऊ के अमौसी एयरपोर्ट का है. पीएम नरेन्द्र मोदी के भाई प्रहलाद मोदी को सुल्तानपुर और जौनपुर में योग सोशल सोसायटी की ओर से सम्मानित किया जाना था. पुलिस ने एक दिन पहले सोसायटी और कार्यक्रम को फर्जी बताते हुए आयोजक को हिरासत में लिया है. प्रहलाद मोदी बुधवार को दिल्ली से दोपहर दो बजे लखनउ एयरपोर्ट पहुंचे. आयोजकों के अरेस्ट होने से प्रहलाद मोदी का कार्यक्रम रद्द हो गए हैं.

UP के यूनिवर्सिटी में 10 जुलाई से नया सेशन,शैक्षिक सत्र 2021-22 का कैंलेंडर जारी

प्रहलाद मोदी ने पुलिस से अपने साथियों को बिना शर्त के रिहा करने के लिए कहा. इस बारे में प्रहलाद मोदी ने बताया, पुलिस अफसर कहते हैं कि पीएमओ से आदेश है. मै कहता हूं आदेश की काॅपी मुझे दो ताकि मैं सच की राह पर चल सकूं. गुंडागर्दी करने से न ही यहां के शासन को लाभ होगा और न ही पीएमओ को. उन्होंने कहा जब तक पुलिस मुझे आदेश की कॉपी नहीं देती है, मैं नहीं हटूंगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें