मेरे पिता के पास पैसे रखवाते थे अलीगढ़ के एक मुस्लिम मेहरबान: PM मोदी

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Tue, 14th Sep 2021, 5:37 PM IST
  • प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार की अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय का शिलान्यास और डिफेंस कॉरिडोर का उद्घाटन किया. इस कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने अपने बचपना का अलीगढ़ से जुड़ा हुआ किस्सा भी सुनाया.
PM मोदी ने बचपन का किस्सा किया याद, बताया- एक मुस्लिम मेहरबान जब अलीगढ़ के ताले लेकर आते तो अपने पैसे मेरे पिता के पास रखवाते थे

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को अलीगढ़ पहुंचे. जहां पर उन्होंने राजा महेंद्र प्रताप सिंह यूनिवर्सिटी का शिलान्यास किया. यूनिवर्सिटी का शिलान्यास करने के बाद पीएम मोदी ने वहां मौजूद लोगों को संबोधित भी किया. जिसके दौरान उन्होंने अपने बचपन का अलीगढ़ से जुड़ा हुआ एक किस्सा सुनाया. उन्होंने बताया कि अलीगढ़ से एक मुस्लिम ताला विक्रेता उनके गांव आया करते थे. जो अपने पैसे उनके पिता के पास छोड़ देते थे. वहीं जब अलीगढ़ वापस रवाना होते थे, तो उनके पिता उन्हें उनका पैसा वापस कर देते थे.

इसके साथ ही पीएम मोदी ने अपने भाषण के दौरान कहा कि अभी तक लोग अपने घर की या अपने दुकान के सुरक्षा के लिए अलीगढ़ के भरोसे रहते थे. पता है ना, क्योंकि अलीगढ़ का ताला अगर लगा होता था तो लोग निश्चिंत हो जाते थे. लेकिन अब अलीगढ़ देश की सीमाओं की रक्षा के लिए भी जाना जाएगा पीएम मोदी अलीगढ़ में डिफेंस कॉरिडोर का उद्घाटन किया के दौरान उन्होंने कहा कि 21वीं सदी में मेरा अलीगढ़ हिंदुस्तान की सीमाओं का रक्षा करेगा. साथ ही कहा कि वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट योजना के तहत यूपी सरकार ने अलीगढ़ के तालों और हार्डवेयर को नई पहचान दिलाने का काम किया है.

'अब्बाजान' कहने पर CM योगी के खिलाफ मुजफ्फरपुर CJM कोर्ट में परिवाद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के शिलान्यास और डिफेंस कॉरिडोर का उद्घाटन समारोह के दौरान कहा की जब वह छोटे थे तब वह यूपी के 2 जिलों का नाम का सुनाई देता था अलीगढ़ और सीतापुर. इसके साथ ही पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव का बिगुल फुका. पीएम मोदी ने इस दौरान विपक्ष पर सीधा निशाना साधा. उन्होंने कहा कि विपक्ष विकास विरोधी ताकते हैं. साथ ही पीएम मोदी ने उन से राज्य को बचाने की अपील भी किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें