सरकारी नौकरी का झांसा देकर सिपाही ने 9 लाख हड़पे, धोखाधड़ी केस में FIR दर्ज

Smart News Team, Last updated: Sun, 6th Jun 2021, 7:26 AM IST
मिर्जापुर के 39वीं वाहिनी पीएसी में ड्यूटी कर रहे सिपाही प्रमोद मिश्रा के खिलाफ लखनऊ महानगर कोतवाली में धोखेबाजी करने के आरोप में एफ आई आर दर्ज किया गया है. सिपाही पर आरोप है कि उसने अमित राय नामक व्यक्ति को नौकरी दिलाने के नाम पर 9 लाख वसूले हैं.
सिपाही पर सरकारी विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने का आरोप लगा. (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ : यूपी के बाल विकास पुष्टाहार विभाग में परियोजना अधिकारी पद की नौकरी दिलाने के नाम पर नौ लाख रुपए हड़पने वाले सिपाही प्रमोद मिश्रा के खिलाफ महानगर कोतवाली में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया गया. सिपाही प्रमोद मिश्रा ने धोखेबाजी करने के बाद अपना ट्रांसफर मिर्जापुर पीएसी में करवा लिया था. पीड़ित अमित राय ने सिपाही प्रमोद मिश्रा के पत्नी और बेटे को भी इस धोखेबाजी में साथ देने का आरोप लगाया.

अमित राय मड़ियांव कृष्णा कॉलोनी के रहने वाले हैं. नौकरी की खोज में अमित राय लखनऊ महानगर के रेडियो मुख्यालय में ड्यूटी कर रहे प्रमोद मिश्रा से हुई. आपसी मेलजोल बढ़ने के बाद एक दिन बात नौकरी पर आ पहुंची. सिपाही प्रमोद मिश्रा ने अमित राय को बाल विकास पुष्टाहार विभाग में परियोजना अधिकारी पद पर नौकरी दिलाने की बात कही. जिसके लिए अमित राय ने सिपाही को 12 लाख रुपए दिए थे. सिपाही प्रमोद मिश्रा ने अमित राय को एक नकली जॉइनिंग लेटर दे दिया. जिसकी भनक अमित राय को नहीं लगी.

LDA की पहले आओ पहले पाओ योजना का टाइम बढ़ा, जानें कब तक कर सकते हैं फ्लैट बुक

अमित राय ज्वाइनिंग लेटर लेकर कौशांबी जिला में ड्यूटी करने गए. जहां डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने अमित राय के ज्वाइनिंग लेटर को जाली करार दिया. अपने साथ धोखा होने के बाद अमित ने सिपाही प्रमोद मिश्रा से अपने दिए हुए 12 लाख रुपए मांगना शुरू किया. सिपाही ने अमित को शुरू में 3 लाख वापस किए. लेकिन सिपाही ने बचे हुए पैसे को लेकर चुप्पी साध लिया. पैसा वापस न करना पड़े. इसके लिए सिपाही ने अपना ट्रांसफर करवा लिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें