1 जनवरी 2020 से प्रदूषण सर्टिफिकेट बनवाना होगा महंगा

Smart News Team, Last updated: 22/11/2020 02:22 PM IST
  • यूपी परिवहन विभाग ने सात साल बाद गाड़ियों का प्रदूषण नियंत्रण सर्टिफिकेट की दरों में बदलाव किया है. वाहन मालिकों को अब पीयूसी बनवाने के लिए दोगुना शुल्क देना होगा.
यूपी में गाड़ियों के प्रदूषण जांच की दर बढ़ी.

लखनऊ: यूपी में अब 1 जनवरी 2020 से गाड़ियों के पल्यूशन अंडर कंट्रोल (PUC) सर्टिफिकेट के लिए दोगुना चार्ज देना पड़ेगा. यूपी परिवहन विभाग ने 7 साल बाद पीयूसी दरों में बदलाव किया है. इसके साथ ही अब गाड़ी का पीयूसी https://vahan.parivahan.gov.in/puc/views/PucCertificate.xhtml लिंक से खुद भी डाउनलोड किया जा सकता है.

अपर परिवहन आयुक्त एके पांडेय के मुताबिक यूपी ऑनलाइन मोटरयान प्रदूषण केंद्र योजना-2020 में कई प्रावधान किए गए हैं. इसके तहत अब कोई भी एनजीओ, ट्रस्ट, फर्म पीयूसी सेंटर का लाइसेंस ले सकेगी. उनके मुताबिक, यूपी रोडवेज के सबी वर्कशॉपों और मान्यताप्राप्त गैरेजों की पीयूसी सेंटर की सुविधा दी जा सकती है. इस योजना के साथ अब सचल प्रदूषण जांच केंद्र की स्थापना की गई है.

82 साल के हुए मुलायम, पार्टी कार्यालय के बाहर हुआ रक्तदान शिविर का आयोजन

बीएस-2 और बीएस-3 वाहने में छह माह और बीएस-4 और बीएस-6 वाहने में पीयूसी सर्टिफिकेट एक साल तक वैलिड होगा. अब दुपहिया के लिए 50 रुपए, तीन पहिया के लिए 70 रुपए, चार पहिया के लिए 70 रुपए के अलावा सभी प्रकार डीजल वाहनों की जांच के लिए 100 रुपए देना पड़ेगा. अभी तक दो पहिया के लिए 30 रुपए, चार पहिया पेट्रोल के लिए 40 रुपए व चार पहिया डीजल वाहनों के प्रदूषण जांच के लिए 50 रुपए चुकाना पड़ता था.

लखनऊ: पिछले 10 दिनों में 120 से ज्यादा लोग डेंगू की चेपट में

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें