पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा: कोरोना के डर से 40 प्रतिशत छात्र नहीं पहुंचे सेंटर

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 05:23 PM IST
  • पॉलीटेक्निक प्रवेश परीक्षा में कोरोना संक्रमण के चलते पूरे प्रदेश में 35 प्रतिशत अभ्यार्थी पेपर देने नहीं पहुंचे. वहीं राजधानी में शनिवार को पहली पाली में 22 केन्द्रों पर परीक्षा कराई गई.
पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा के दौरान एक परीक्षा केन्द्र पर बिना सोशल डिस्टेंसिंग खड़े अभ्यार्थी.

लखनऊ: राजधानी में  शनिवार को इंजीनियरिंग और फार्मेसी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा  आयोजित की गई थी. इस बार पहले के मुकाबले परीक्षार्थियों की संख्या बहुत कम है. पहले जहां, इन पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए मारामारी रहती थी, इस बार अभ्यर्थी परीक्षा देने ही नहीं पहुंचे. राजधानी में लगभग 40 प्रतिशत परीक्षार्थियों ने यह परीक्षा छोड़ दी. वहीं, प्रदेश भर में 65 प्रतिशत अभ्यर्थी ही पेपर में मौजूद थे. 35 प्रतिशत तक अनुपस्थिति दर्ज की गई है.

आपको बता दें, इस बार संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने प्रवेश परीक्षा के प्रारूप में बदलाव किया है. परीक्षा दो दिन कराई जा रही है. शनिवार को इंजीनियरिंग और फार्मेसी डिप्लोमा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ऑफलाइन मोड में परीक्षा कराई गई. वहीं, आने वाले मंगलवार को अन्य पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए ऑनलाइन परीक्षा कराई जाएगी.

50 हज़ार का इनामी हिस्ट्रीशीटर सुरेंद्र कालिया कोलकाता में गिरफ्तार

राजधानी में पहली पाली में परीक्षा सुबह 9 से 12 बजे के बीच हुई. इसके लिए कुल 22 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे. पहली पाली में करीब 8231 अभ्यर्थियों को शामिल होना था. लेकिन केवल 4955 ही पेपर देने पहुंचे. कोरोना संक्रमण को देखते हुए परीक्षा केन्द्रों पर कई दावे किए गए थे. लेकिन, कुछ केन्द्रों पर स्थितियां ठीक नही दिखाई दी. लखनऊ पॉलीटेक्निकल कॉलेज में छात्रों के एक लाइन में खड़े होने की फोटो सामने आई हैं. जिसमें, सोशल डिस्टेंसिंग का नामोनिशान नही है. इसके साथ ही प्रदेश के सभी 75 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे. यहां, 2,78,145 अभ्यर्थियों का शामिल होना था. इसमें, करीब 65 प्रतिशत उपस्थित हुए. अभी दूसरी पाली की परीक्षाएं चल रही हैं. शाम की पाली के लिए 66,306 छात्र रजिस्टरड हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें