बीच रास्ते में एबुलेंस की ऑक्सीजन खत्म, प्रेगनेंट महिला की मौत, ड्राइवर पर केस

Smart News Team, Last updated: Sun, 9th May 2021, 11:51 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में एक पांच महीने की कोरोना संक्रमित गर्भवती महिला को ऑक्सीजन की कमी चलते दूसरे अस्पताल ले जाया जा रहा था. जहां एंबुलेंस ड्राइवर की लापरवाही के चलते ऑक्सीजन बीच रास्ते में ही खत्म हो जाने से महिला की मौत हो हुई.
बीच रास्ते में एबुलेंस में ऑक्सीजन खत्म, प्रेगनेंट महिला की मौत, ड्राइवर पर केस दर्ज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश ने एक एंबुलेंस चालक की लापरवाही के कारण 5 महीने की कोरोना संक्रमित गर्भवती महिला की मौत हो गई. पीड़ित परिवार ने बाराबंकी पुलिस के पास अपनी शिकायत दर्ज करानी चाही तो उल्टे बाराबंकी पुलिस ने पीड़ितों को लखनऊ जाकर मामला दर्ज कराने की सलाह दी. इस बीच लापरवाही के चलते परिवार के अन्य लोग भी संक्रमित हो गए. महिला की मौत से आहत हुए परिजनों ने शनिवार को पीजीआई पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराते हुए तुरंत कार्यवाई करने की. पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है.

जानकारी के अनुसार परिजनों के मुताबिक 20 अप्रैल को लोकबंधु अस्पताल मैं ऑक्सीजन संकट होने पर परिवार वाले संक्रमित गर्भवती को इलाज के लिए गोरखपुर ले जा रहे थे. महिला के ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत के चलते परिवार वालों ने प्राइवेट एंबुलेंस ड्राइवर से संपर्क किया. प्राइवेट एम्बुलेंस से लखनऊ से लेकर गोरखपुर तक का किराया 28 हजार रूपए में तय किया गया.

योगी सरकार का फैसला, कोरोना संक्रमित के अंतिम संस्कार को देगी 5 हजार

ड्राइवर ने एंबुलेंस में दो ऑक्सीजन सिलेंडर होने का दावा किया था जिसके बाद परिजन अपने मरीज को एंबुलेंस से लेकर गोरखपुर के लिए निकल गए लेकिन बाराबंकी पहुंचते ही एम्बुलेंस का ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म हो गया. जब परिजनों ने ड्राइवर से दूसरा सिलेंडर लगाने को कहा तो वह आनाकानी करने लगा. परिजनों के जोर देने पर पता चला कि दूसरा सिलेंडर भी खाली है. बीच रास्ते में ऑक्सीजन न मिल पाने के कारण गर्भवती महिला की रास्ते में ही तड़प तड़प कर मौत हो गई.

योगी सरकार का बड़ा फैसला, कोरोना ड्यूटी पर मृत आश्रितों को मिलेंगे 50 लाख रुपए

महिला के भाई संजय के मुताबिक परिजनों द्वारा बाराबंकी पुलिस को सूचना देने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हुई. महिला के परिवार ने अब पीजीआई कोतवाली में तहरीर देकर ड्राइवर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. इंस्पेक्टर पीजीआई आनंद शुक्ला ने बताया कि वह शनिवार को छुट्टी से लौटें हैं. उन्हे इस घटना की कोई जानकारी नहीं है लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए तहरीर की जांच करा कर कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें