अखिलेश की होली जश्न में नहीं शामिल हुए शिवपाल, सपा अध्यक्ष ने कसा तंज

Smart News Team, Last updated: Tue, 30th Mar 2021, 11:01 AM IST
  • सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की सैफई होली जश्न में प्रासपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव शामिल नहीं हुए. जिसके बाद अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल सिंह यादव पर तंज कसा.
अखिलेश की होली जश्न में नहीं शामिल हुए शिवपाल, सपा अध्यक्ष ने कसा तंज

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सैफई में होली के जश्न का आयोजन किया था. जिसमे प्रासपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव नदारद रहे. वही इसपर अखिलेश यादव ने सांकेतिक भाषा में कहा कि वह कही और ही होली माना रहे होंगे. जबसे शिवपाल सिंह यादव ने सपा से अलग प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के नाम से पार्टी बनाई हैं तबसे चाचा भतीजे के बीच ऐसी बयानबाजी देखने को मिलती रहती है.

अखिलेश यादव ने जब सपा को पूरी तरह से अपने हाथो में ले लिया था उसके बाद ही शिवपाल सिंह यादव ने प्रासपा पार्टी का गठन किया था. वही उन्होंने पार्टी से संसदीय चुनाव में प्रदेश के साथ ही देश के कई सीटों से अपने उम्मीदवार उतरे थे, लेकिन खुद शिवपाल समेत कई उम्मीदवारों की जमानत तक नहीं बची थी. जिसके बाद से ही वह अखिलेश यादव के साथ गठबन्धन कर चुनाव लड़ने की पेशकश करने लगे है. इसके बावजूद भी दोनों एक दूसरे को तंज कसने में कोई कसर नहीं छोड़ते है.

UP की बेटियों को CM योगी का होली गिफ्ट,इन हॉस्टल स्कूलों में 12वीं तक पढ़ाई फ्री

शिवपाल सिंह यादव इससे पहले सैफई में होने वाली होली के जश्न में हमेशा शामिल होते आए है, लेकिन इस बार उन्होंने अपने पिता सुधर सिंह के नाम पर स्थापित किए गए एस.एस.मेमोरियल स्कूल में अपने समर्थकों के साथ होली मनाई हैं. जिसको लेकर अखिलेश यादव ने तंज कसा हैं.

किसान घर बैठे टोल फ्री नंबर पर कॉल करके करा सकेंगे क्रेडिट कार्ड का रजिस्ट्रेशन

आपको बता दे कि भले ही शिवपाल सिंह ने प्रासपा पार्टी का गठन करके अपनी अलग राह चुन ली हो, लेकिन अभी तक उन्होंने समाजवादी पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया हैं. वह अभी भी जसवंतनगर विधानसभा से सपा पार्टी के विधायक निर्वाचित हैं. भले ही उन्होंने अलग पार्टी बना ली हो, लेकिन अभी भी उनके पारिवारिक संबंध पहले जैसे ही माने जा रहे हैं.

केंद्रीय विद्यालय में एडमिशन की तारीख का ऐलान, जानें फुल डिटेल्स

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें