रेलवे में 1.24 लाख पदों पर नौकरी, रेल का नहीं हो रहा निजीकरण: रेलमंत्री वैष्णव

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Thu, 6th Jan 2022, 10:13 PM IST
  • रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया कि रेलवे में एक लाख 24 हजार पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि भारतीय रेलवे का निजीकरण नहीं हो रहा है. विपक्षी दल इसका दुष्प्रचार कर जनता को भ्रमित कर रहा है.
रेलवे में 1.24 लाख पदों पर नौकरी, रेल का नहीं हो रहा निजीकरण: रेलमंत्री वैष्णव

लखनऊ. भारतीय रेलवे में विभिन्न श्रेणी के 1.20 लाख पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दिया गया है. रेलवे इस भर्ती के बारे में रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने जानकारी दी. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इस भर्ती के लिए एक करोड़ से भी ज्यादा अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है. इसकी घोषणा करते हुए उन्होंने बताया कि भारतीय रेल का निजीकरण नहीं होगा, विपक्षी दल रेलवे के निजीकरण का दुष्प्रचार कर जनता को भ्रमित कर रहे है.

अश्विनी वैष्णव ने आगे बताया कि पटरी, इंजन, कोच, सिग्नल सिस्टम, लोको पायलट, गार्ड, स्टेशन सब कुछ रेलवे का है तो निजीकरण कैसे हो सकता है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि तेजस जैसी ट्रेनों का संचालन भी आईआरसीटीसी कर रही है जो कि भारत सरकार का उपक्रम है. वहीं रेलवे 53 प्रतिशत सब्सिडी पर लोगों को यात्रा कराती है ऐसे में कौनसी निजी कंपनी होगी जो रेलों का संचालन करना पसंद करेगी. इसके साथ ही उन्होंने बताय कि रेलवे का निजीकरण कभी नहीं हो सकता है.

CBSE के 10वीं और 12वीं के स्टूडेंट इस साल नहीं होंगे फेल, जानें पूरी डिटेल

अश्विनी वैष्णव ने रेलवे भर्ती को लेकर बताया कि विभाग में वर्तमान में करीब 12 लाख कार्मिक कार्यरत है. जिसमें रेलवे का 45 हजार करोड़ रुपए पेंशन और 97 हजार करोड़ रुपए कर्मियों के वेतन पर खर्च होता है. साथ ही यह भी बताया के रेलवे में 1.20 लाख पदों पर भर्ती प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है. साथ ही उन्होंने बताया कि रेल यात्रा के अनुभव और भी बेहतर बनाया जाएगा. जिसके लिए नए यात्री कोच तैयार किए जा रहे है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें