रामजन्मभूमि ट्रस्ट के खाते में जमा हुए 32 सौ करोड़ रुपये, ऐसा होगा भव्य राम मंदिर

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 22nd Feb 2022, 8:49 AM IST
  • अयोध्या में बनने जा रहे भव्य राम मंदिर के लिए निधि समर्पण अभियान चलाया गया था. अब इस अभियान में रामजन्मभूमि ट्रस्ट के खाते में आए पैसों को लेकर ट्रस्ट महासचिव चंपत राय ने संतों के समक्ष बताया कि 31 मार्च 2021 तक रामजन्मभूमि ट्रस्ट के खाते में 32 सौ करोड़ की धनराशि जमा हो चुकी है.
राम मंदिर (फाइल फोटो)

लखनऊ, कमलाकान्त सुन्दरम्. अयोध्या में बनने जा रहे भव्य राम मंदिर के लिए निधि समर्पण अभियान चलाया गया था. इस अभियान में आए पैसों को लेकर रामजन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सभी संतो के सामने बताया कि फिलहाल 31 मार्च 2021 तक रामजन्मभूमि ट्रस्ट के खाते में 32 सौ करोड़ की धनराशि जमा हुई है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हालांकि 14 जनवरी से 27 फरवरी 2021 तक 42 दिनों के लिए चलाए गये निधि समर्पण अभियान के दौरान कुल कितनी धनराशि आई है इसका आंकलन नहीं किया जा सका है. इसके पीछे की मुख्य वजह ये भी बताई गई है कि 15-20 लाख श्रद्धालुओं ने अपने नाम व पते के अलावा मोबाइल नंबर की जानकारी नहीं दी है.

इसके साथ ही रामजन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि राम मंदिर के निर्माण की लागत कितनी होगी इसकी गणना एलएण्डटी अभी तक नहीं कर पाई है. हालांकि जनता ने राम मंदिर के लिए इतना पैसा दिया है कि किसी के आगे पांच साल तक हाथ फैलाने की जरूरत नहीं रह गयी है.

राम मंदिर: 3 मंजिला मंदिर में होंगे 400 खंभे, रामलला के दर्शन के लिए चढ़नी होगी 32 सीढ़ियां

हालांकि चंपत राय ने राम मंदिर के निर्माण को लेकर कहा कि राम मंदिर में के निर्माण में सभी प्रकार के पत्थरों को मिलाकर कुल 17 लाख घनफुट पत्थरों का प्रयोग होगा.इसके साथ ही उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं के लिए मंदिर परिसर में दो लिफ्ट लगेंगी और दिव्यांगों के लिए रैम्प भी तैयार होगा. राम मंदिर की ऊंचाई इतनी हो जाएगी कि 32 सीढ़ियां चढ़नी पड़ेंगी, इसलिए दिव्यांगों के लिए रैम्प का भी प्रबंध किया जाएगा. राम मंदिर में प्रतिदिन औसतन 15 हजार दर्शनार्थी दर्शन के लिए आ रहे हैं और भविष्य में यहां दो लाख श्रद्धालु प्रतिदिन आने का अनुमान है. इसी को देखते हुए श्रद्धालुओं के लिए आठ सौ मीटर का सबसे छोटा रास्ता चुना गया जो कि सुग्रीव किला से रामजन्मभूमि तक पहुंचेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें