लखनऊ उन्नाव कानपुर में शुरू होगा रैपिड ट्रेन सेवा, प्रस्ताव पर काम जारी

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Apr 2021, 3:13 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के लखनऊ उन्नाव कानपुर के बीच रैपिड रेल परियोजना के प्रस्ताव पर काम शुरू. आवास एवं नियोजन विभाग ने आरआरटीएस के शुरुआती कामकाज की जिम्मेदारी केडीए को दिया है. केडीए के रिपोर्ट के आधार पर जल्द ही केंद्र सरकार के पास एक प्रस्ताव भेजा जाएगा
लखनऊ, कानपुर और उन्नाव में रैपिड रैल का प्रस्ताव.( सांकेतिक फोटो )

उत्तर प्रदेश में रहने वाले लोगों को जल्द ही एक और रैपिड ट्रेन की सुविधा मिल सकती है. इस नए रैपिड ट्रेन लखनऊ, उन्नाव, कानपुर के बीच चलाने की योजना बनाई जा रही है. इस योजना की प्रारंभिक तैयारी की जिम्मेदारी कानपुर विकास प्राधिकरण को दिया गया है. कानपुर विकास प्राधिकरण के अधिकारी तीनों शहर लखनऊ, उन्नाव और कानपुर जा कर रैपिड ट्रेन के लिए निरीक्षण और संभावनाएं तलाश करेंगे. कानपुर विकास प्राधिकरण के अधिकारी अपनी एक रिपोर्ट बनाएंगे. इस रिपोर्ट के आधार पर केंद्रीय आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय को एक प्रस्ताव भेजा जाएगा. प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार के अनुसार लखनऊ, उन्नाव और कानपुर के बीच रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम यातायात सेवा के बारे में उत्तर प्रदेश सरकार केंद्र सरकार के संबंधित मंत्रालय से बात करेगा.

रैपिड ट्रेन की सहायता से उत्तर प्रदेश सरकार लखनऊ और कानपुर के बीच तेज परिवहन यातायात शुरू करना चाहती है. लखनऊ और कानपुर के बीच लगातार बढ़ रहे. ट्रैफिक के दबाव को कम ने के लिए पूर्व अखिलेश सरकार ने रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम का प्रस्ताव 2015 में ही तैयार कराया था. इस रैपिड ट्रेन के प्रस्ताव पर बाद में ध्यान नहीं दिया गया. उत्तर प्रदेश की नई सरकार ने अब इस परियोजना पर ध्यान दिया है.

बिना मेडिकल बोर्ड के कैदी पूर्व विधायक का चल रहा था इलाज, वीसी से हुई शिकायत

 उत्तर प्रदेश सरकार साल 2022 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर इस परियोजना पर जल्द ही काम शुरू करना चाहती है. इस परियोजना के पूरा होते ही यूपी को लखनऊ – उन्नाव– कानपुर के बाद दूसरा आरआरटीएस यातायात सेवा की सुविधा मिल जाएगी.

यूपी पंचायत चुनाव 2021: समीकरण बदलने के बाद प्रत्याशियों ने बदले राजनीति के तरीके, जानिए कैसे

लखनऊ पहुंचने से पहले चलती ट्रेन सप्तक्रांति एक्सप्रेस दो हिस्सों में बटी, बड़ा हादसा टला

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें