1 जनवरी से ATM से पैसा निकालना होगा महंगा, फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट के बाद कटेंगे इतने पैसे

Somya Sri, Last updated: Fri, 3rd Dec 2021, 3:39 PM IST
  • रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सभी बैंकों को नोटिफिकेशन जारी कर फ्री मंथली एटीएम ट्रांजेक्शन की लिमिट से ज्यादा पैसे निकालने के शुल्क को बढ़ाने की अनुमति दे दी है. 1 जनवरी 2022 से एटीएम ट्रांजेक्शन महंगा हो जाएगा. अगले साल से फ्री एटीएम ट्रांजेक्शन के मंथली लिमिट के बाद हर ट्रांजैक्शन पर 20 से बढ़कर 21 रुपये चार्ज वसूला जाएगा.
1 जनवरी से ATM से पैसा निकालना होगा महंगा, फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट के बाद कटेंगे इतने पैसे (प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एटीएम ट्रांजेक्शन को लेकर एक नई गाइडलाइन जारी की है. जिसके तहत 1 जनवरी 2022 से एटीएम ट्रांजेक्शन महंगा हो जाएगा. इसका मतलब अगले साल से फ्री एटीएम ट्रांजेक्शन के मंथली लिमिट के बाद एटीएम से पैसे निकालने पर आपको ज्यादा पैसे अदा करने होंगे. जानकारी के मुताबिक फ्री एटीएम ट्रांजेक्शन के मंथली लिमिट के बाद जब कोई शख्स एटीएम से पैसे निकालता है तो ट्रांजैक्शन पर 20 रुपये दर चार्ज वसूला जाता है. लेकिन अब 1 जनवरी 2022 में यह बढ़कर प्रति ट्रांजैक्शन 21 रुपये हो गया है.

1 जनवरी से एटीएम ट्रांजैक्शन का चार्ज बढ़ाने के मामले में आरबीआई का कहना है बैंकों की क्षतिपूर्ति और लागत में सामान्य वृद्धि के कारण यह फैसला लिया गया है. आरबीआई ने कहा, "उच्च इंटरचेंज शुल्क के लिए बैंकों को क्षतिपूर्ति करने और लागत में सामान्य वृद्धि को देखते हुए, ग्राहक शुल्क 20 से बढ़ाकर 21 रुपये प्रति लेनदेन करने की अनुमति है. यह वृद्धि 1 जनवरी, 2022 से प्रभावी होगी."

12,500 रूपये जमा करने पर मिलेंगे 40 लाख रूपये, पोस्ट ऑफिस की धांसू स्कीम

फ्री एटीएम ट्रांजैक्शन एक महीने की लिमिट कितनी है?

आपको बता दें कि इस वक्त फ्री ट्रांजैक्शन की मंथली लिमिट पांच है. हालांकि यह लिमिट इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस शहर में रह रहे हैं. अगर आप मेट्रो शहर में रहते हैं या मेट्रो शहर की बैंक के ग्राहक हैं तो आपको हर महीने 3 बार ही फ्री ट्रांजैक्शन मिलेगा. जबकि दूसरे शहरों में हर महीने पांचवी ट्रांजैक्शन किया जा सकता है.

इन वजहों से कम होती है मंथली फ्री एटीएम ट्रांजैक्शन लिमिट

ब्रा दें कि बैंक ग्राहकों को दी जाने वाली फ्री लिमिट में नॉनफाइनेंशियल ट्रांजैक्शन की भी गिनती की जाती है. यानी अगर कोई ग्राहक अपनी एटीएम से बैलेंस चेक करता है या फिर मिनी स्टेटमेंट देखता है तो इसे भी फ्री ट्रांजैक्शन लिमिट में ही गिना जाता है. वहीं अगर कोई ग्राहक एटीएम में जाकर कार्ड का पिन भी बदलना हो तो इसे भी ट्रांजैक्शन ही गिना जाता है फ्री ट्रांजैक्शन लिमिट में ही गिना जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें