वॉट्सएप पर जज को धमकी! खुद को बताया बाहुबली विधायक प्रत्याशी, कहा- सामने आकर गोली मार दूंगा

Pallawi Kumari, Last updated: Mon, 20th Sep 2021, 1:10 PM IST
  • यूपी विनियमन और विकास अधिनियम (रिट) के चेयरमैन डीके अरोरा को वॉट्सएप मैसेज के जरिए जान से मारने की धमकी मिल रही है. धमकी देने वाला शख्स खुद को प्रतापगढ़ का बाहुबली विधायक प्रत्याशी कैलाश बहादुर बता रहा है.
वॉट्सएप पर जज को जान से मारने की धमकी. फोटो साभार-हिन्दुस्तान

लखनऊ.इलाहाबाद हाईकोर्ट के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति देवेंद्र कुमार अरोरा इस वक्त यूपी विनियमन और विकास अधिनियम (रिट) के चेयरमैन हैं. हाल ही में उनके मोबाइल पर वॉट्सएप मैसेज के जरिए उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई.  इस मामले को लेकर शिकायत दर्ज कराई गई है. धमकी भरे मैसेज करने वाला खुद को प्रतापगढ़ का बाहुबली विधायक प्रत्याशी कैलाश बहादुर सिंह बता रहा है. हालांकि डीके अरोरा का कहना है कि वो किसी कैलाश बहादुर सिंह को नहीं जानते. शिकायत दर्ज होने के बाद पुलिस इसकी जांच में जुट गई है.

रिट के प्रशासनिक सदस्य राजीव मिश्र ने पीजीआई थाने में मैसेज कर जान मारने की धमकी देने वाले कैलाश बहादुर के खिलाफ आईपीसी की धारा 506 और 507 के तहत शिकायत दर्ज कराई. उन्होंने वॉट्सएप मैसेज, मैसेज का स्क्रीनशॉर्ट, वॉट्सएप पर लगी डीपी की फोटो पुलिस को सौंप दी है. राजीव मिश्र ने धमकी देने वाले आरोपी के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई की मांग की है.

रेल यात्री ध्यान दें! लखनऊ-झांसी-मुंबई समेत कई रूटों की 16 ट्रेनें कैंसिल, फुल लिस्ट

राजीव मिश्र के मुताबिक, आरोपी ने व्हाट्सअप मैसेज में लिखा है- मैं सुंदर लाल नहीं प्रतापगढ़ का कैलाश बहादुर सिंह हूं. सुंदर लाल के साथ जो भी हुआ उसने झेल लिया. लेकिन मैं सामने आकर गोली मारूंगा. वहीं डीके अरोरा का कहना है कि, वह किसी कैलाश बहादुर को नहीं जानते और ना ही उसे कभी देखा है. इतना ही नहीं वॉट्सएप पर लगी डीपी (फोटो) में भी वह उस शख्स को नहीं पहचान रहे. 

गौरतलब है कि, इलाहाबाद हाईकोर्ट के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति देवेंद्र कुमार अरोरा इस वक्त यूपी विनियमन और विकास अधिनियम (रिट) के चेयरमैन हैं. जस्टिस अरोड़ा काफी समय तक प्रदेश सरकार के अपर महाधिवक्ता रहे. रिटायर होने के बाद उन्हें यूपी विनियमन और विकास अधिनियम (रिट) का चेयरमैन बनाया गया. डीके अरोरा 2009 को वह हाईकोर्ट में अतिरिक्त जज के रूप में नियुक्त हुए और दिसंबर 2010 से नियमित न्यायमूर्ति बने.

यूपीकॉप एप महिलाओं को बताएगी कौन से इलाके है असुरक्षित, अपराध वाली जगहों की भी मिलेगी जानकारी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें