यूपी-बिहार में की प्रॉपर्टी में निवेश करने का सबसे सही मौका, इस जगह के रेट बदले

Smart News Team, Last updated: Sat, 20th Mar 2021, 8:17 AM IST
  • प्रॉपर्टी में निवेश करने वालों के लिए सही मौका आ गया है. यूपी बिहार में कई इलाकों में जमीन के दामों में काफी उछाल आया है. एक तरफ जहां यूपी के चंदौली जिले में आज चार से पांच बिस्वे की जमीन 15 से 20 लाख के आंकड़े पार कर रही है. वहीं एनएच दो के आसपास इलाकों में भी जमीन के दाम बढ़े है.
यूपी बिहार में प्रॉपर्टी निवेश का सबसे सही मौका, इस जगह आया ज्यादा उछाल

लखनऊ. यूपी बिहार में प्रॉपर्टी निवेश का सही मौका आ गया है. उत्तर प्रदेश के चंदौली जनपद में जमीन के रेट में दस से पंद्रह सालों के अंदर काफी उछाल आया है. आज चार से पांच लाख रुपये बिस्वे की जमीन 15 से 20 लाख रुपये का आंकड़ा पार कर रही है. वहीं बिहार से वाराणसी एवं प्रयागराज को जोड़ने वाले एनएच दो के आस-पास सटे गांव में भी जमीनों के दाम बढ़ने लगे है. ये जमीनें निवेश करने के लिए बेहद महत्वपूर्ण हो सकती है. हाईवे के किनारे भी धीरे-धीरे प्लॉटिंग करने एवं नई कॉलोनियां बसाने की तैयारी हो रही है. जहां लोग व्यापारिक दृष्टिकोण से जमीनों पर निवेश कर रहे है.

चंदौली जिले के प्रमुख शहर पंडित दीनदयाल उपाध्याय में पिछले कुछ सालों में मॉल कल्चर का तेजी से विकास हुआ है. शहर में शोरूम, मॉल व अच्छे रेस्तरां बनने के कारण यहाँ की जमीनों के दाम में काफी बढ़ोत्तरी हुई है. एक वक्त पर शहर के कुछ इलाकों में लोग रहना नहीं चाहते थे. वहीं अब शहर के बीच में जमीन ही नहीं बची है. जिस कारण नगर के आस-पास कॉलोनियों का विकास हो रहा है. जो निवेश की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण हो सकती है. इसके साथ ही शहर के पास के ग्रामीण इलाकों में जमीनें सर्किल रेट से कई गुना ऊंचे दामों पर बिक रही है.

ED ने किया IFS के पति पर मनी लांड्रिंग का केस दर्ज, करोडों रुपए ठगने का आरोप

यूपी बिहार बॉर्डर पर जमीनों एवं प्रॉपर्टी में निवेश करना भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है. बिहार बॉर्डर पर सैयदराजा इलाके में ग्रामीण इलाकों का शहरीकरण हो रहा है. इसके साथ ही चकिया इलाके में नये बने सीआरपीएफ ग्रुप सेंटर के कारण जमीन के दामों में पहले की तुलना में कई गुना बढ़त हुई है. इन इलाकों में निवेश करने की बेहतर संभावनाएं है. इसके साथ ही जिले से गुजरने वाली रिंग रोड के आस-पास जमीन में निवेश करना भी बेहतरीन विकल्प होगा. इन इलाकों में कोरोना काल के बावजूद जमीन में निवेश में बढ़ोत्तरी हुई है.

कोयला घोटाला केस: हाईकोर्ट ने अभियुक्तों की 23 याचिकाएं खारिज की

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें