साबरमती की तर्ज पर UP के 32 शहरों में रिवरफ्रंट बनेंगे, नदियों की सफाई कर चमकाए जाएंगे किनारे

Prachi Tandon, Last updated: Thu, 7th Oct 2021, 11:02 PM IST
  • गुजरात की साबरमती फ्रंट की तरह यूपी के 32 शहरों में रिवरफ्रंट बनाए जाएंगे. छोटे शहरों में नदियों की सफाई करके किनारों को चमकाया जाएगा.
यूपी के 32 शहरों में रिवरफ्रंट बनाए जाएंगे.(सांकेतिक फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में साबरमती फ्रंट की तर्ज पर 32 शहरों में रिवरफ्रंट तैयार किए जाएंगे. गंगा, गोमती, यमुना, सरयू जैसी बड़ी ही नहीं बल्कि छोटी-छोटी नदियों के किनारे बसे शहरों में भी रिवर फ्रंट बनाए जाने की तैयारी की जा रही है. नदियों के किनारों को खूबसूरत बनाने को लेकर मास्टर प्लान मुख्य नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग तैयार करा रहा है. विभाग का मानना है कि रिवरफ्रंट बनने से पर्यटन का विकास भी होगा. लखनऊ में गोमती नदी के किनारे भी फ्रंट बनाया बना है. उसी तरह से इलाहाबाद, वाराणसी, आगरा, मथुरा, कानपुर अयोध्या के अलावा कई छोटे शहरों में भी रिवरफ्रंट बनाने की तैयारी की जा रही है.

अमृत योजना के तहत यूपी के 59 शहरों का मास्टर प्लान तैयार किया जा रहा है. योगी सरकार ने प्लानिंग की जिम्मेदारी मुख्य नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग को दी है. केंद्र और यूपी सरकार 32 शहरों पर खास फोकस कर रही है. ये 32 शहर नदियों के किनारे बसें हैं. इन शहरों में रिवरफ्रंट बनाने के लिए प्लान तैयार किया जा रहा है. केंद्र सरकार अमृत योजना के तहत नदियों के किनारों का विकास कराएगी. गुजरात की साबरमती नदी जैसा विकास यूपी की छोटी-छोटी नदियों के किनारे किया जाएगा. माना जा रहा है कि रिवरफ्रंट्स को लेकर मास्टर प्लान को नवंबर तक अंतिम रूप मिल जाएगा. 

नरेश उत्तम का योगी पर विवादित बयान- गार्ड ना रहे तो कोई टमाटर मारेगा, कोई कालिख पोतेगा

यूपी की रिवर फ्रंट योजना में नदियों की गंदगी दूर की जाएगी. इसी के साथ किनारों को खूबसूरत बनाया जाएगा. हरे-भरे पार्क बनेंगे. इसी के साथ टहलने के लिए पाथवे बनाए जाएंगे. नदियों के किनारे नहाने और पूजा-पाठ के लिए घाट बनाए जाएंगे. इसी के साथ सार्वजनिक शौचालय भी बनाए जाएंगे. उत्तर प्रदेश मुख्य नगर एवं ग्राम नियोजन अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि लखनऊ, इलाहाबाद, अयोध्या जैसे बड़े शहरों के साथ गाजीपुर, मैनपुरी, जौनपुर, सुल्तानपुर, बहराइच, आजमगढ़, बलिया, मऊ, पीलीभीत, बदायूं, शाहजहांपुर, कन्नौज, बस्ती, देवरिया, गोरखपुर, झांसी, ललितपुर, इटावा, फर्रुखाबाद, फतेहपुर, मिर्जापुर, सीतापुर, मुगलसराय, रायबरेली समेत 32 शहरों में रिवर फ्रंट विकसित किए जाएंगे. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें