राम मंदिर बनाने के लिए मुस्लिमों से फंड जुटाएगा RSS, दूरियां मिटाने को पहल

Smart News Team, Last updated: 11/02/2021 04:48 PM IST
  • राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा जुटाने का काम जोर-शोर से चल रहा है. इसी बिच RSS ने राम मंदिर निर्माण के लिए फंड जुटाने के अभियान में मुस्लिम समुदाय को भी शामिल करने का फैसला किया है.
राम मंदिर बनाने के लिए मुस्लिमों से फंड जुटाएगा RSS, दूरियां मिटाने को पहल

लखनऊ: बहुत सारे विवादों के बाद अंत में सुप्रीकोर्ट के फैसले को सर्वोपरी मानते हुए अब अयोध्या में विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा जुटाने का काम जोर-शोर से चल रहा है. इसी बिच RSS ने राम मंदिर निर्माण के लिए फंड जुटाने के अभियान में मुस्लिम समुदाय को भी शामिल करने का फैसला किया है. RSS से जुड़े राष्ट्रीय मुस्लिम मंच नाम के संगठन ने राम मंदिर निर्माण के लिए मुस्लिमों समुदाय से भी सहयोग राशि लेने का फैसला किया है. शुक्रवार को राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के संयोजक इंद्रेश कुमार लखनऊ से इस कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे. 

वह शहर में घूमकर मुस्लिम समुदाय के कुछ लोगों से राम मंदिर निर्माण के लिए योगदान मांगेंगे और इसके साथ ही राष्ट्रीय मुस्लिम मंच का अभियान शुरू हो जाएगा. सूत्रों की माने तो आरएसएस की ओर से राष्ट्रीय मुस्लिम मंच को देश के अलग-अलग हिस्सों से भी मुस्लिम समुदाय से योगदान लेने को कहा गया है. आरएसएस के इस प्रयास को राम मंदिर के लिए चली लंबी कानूनी लड़ाई के बाद दोनों समाज में बनी दूरियों को कम करने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है. 

पारंपरिक से ट्रेडिंग तक, ग्राहकों का अटूट विश्वास है बद्री सर्राफ रिंग रोड

आरएसएस के करीबी सूत्रों ने बताया कि इंद्रेश कुमार दो दिनों तक लखनऊ में रहेंगे और राम मंदिर निर्माण के लिए रकम जुटाने के मकसद से मुस्लिम समुदाय के प्रमुख लोगों से मुलाकात करेंगे. राम मंदिर निर्माण के लिए आरएसएस की ओेर से विश्व हिंदू परिषद को मुख्य तौर पर राम मंदिर निर्माण के लिए निधि समर्पण अभियान की जिम्मेदारी सौंपी गई है. इस अभियान की शुरुआत 15 जनवरी से हुई थी और इस अभियान को 26 फरवरी तक चलाना है. राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक मुरारी दास ने कहा, 'राम मंदिर के निर्माण से समाज की बुराईयां भी समाप्त होंगी. इससे भारत के विकास को गति मिलेगी और समाज के सभी वर्गों का विकास हो सकेगा.

लखनऊ: रियल एस्टेट कंपनी ने तीन सैन्य अधिकारियों से की धोखाधड़ी

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें