अखिलेश का योगी सरकार पर हमला, कहा- BJP राज में चारों तरफ भय-अत्याचार का वातावरण

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Oct 2020, 9:30 AM IST
  • समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी सरकार में अन्याय, अत्याचार, भ्रष्टाचार और चारों तरफ भय , भ्रम का वातावरण हो गया है.
SP अखिलेश यादव ने कहा-BJP सरकार फिल्म सिटी का कैंची लेकर फीता काटने को खड़ी…

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में अन्याय, अत्याचार, भ्रष्टाचार और चारों तरफ भय , भ्रम का वातावरण हो गया है. प्रदेश में हत्या, लूट, अपहरण और रेप की घटनाएं बढ़ गई है. युवा बेरोजगारी से परेशान हैं. महंगाई से किसानों की जिंदगी दूभर हो गई है.

अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी में फर्जी एनकाउंटर किए जा रहे हैं. निर्दोषों के जीवन से खिलवाड़ पर किसी को कोई अफसोस नहीं. बच्चियों के साथ रेप की घटनाएं आम होती जा रही है. इससे हर परिवार दहला हुआ है. अखिलेश यादव ने शनिवार को जारी एक बयान में कहा कि यूपी में सत्ता संरक्षित दबंगों का हर तरफ आतंक मचा हुआ है.

यूपी के श्रमिकों का पंजीयन और नवीनीकरण अब एप पर भी होगा

अखिलेश यादव ने कहा कि अपराधी अब पुलिस पर भी हाथ उठाने से नहीं चूक रहे हैं. पीलीभीत में 3 सिपाहियों को पीटने के बाद उन्हें विधायक निवास के बाहर अधमरा छोड़े जाने की शर्मनाक घटना घटी है. ऐसी पुलिस जनता की सुरक्षा कैसे करेगी?

यौन शौषण केस में नवाजुद्दीन को राहत, इलाहाबाद HC ने गिरफ्तारी पर लगाई रोक

अखिलेश यादव ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा राज में दलितों पर अत्याचार काफी बढ़ गए हैं. उन्होंने कहा कि जिला हमीरपुर के कुरारा थाना क्षेत्र के ग्राम खरौंज निवासिनी सावित्री पत्नी स्वर्गीय भोला दलित बाल्मीकि समाज से है. पीड़िता ने अपनी व्यथाकथा समाजवादी पार्टी कार्यालय लखनऊ में आकर लिख कर दी है. उसका कहना है कि गांव के सवर्णों से झगड़े के फलस्वरूप उसके पति भोला बाल्मीकि की सुनियोजित तरीके से हत्या करा दी गई. उसका शव 23 मई 2020 को खेत में मिला जबकि वह 22 मई 2020 की सुबह घर से निकले तो वापस नहीं आए. अब इस बाल्मीकि परिवार को गांव छोड़कर जाने की धमकियां दी जा रही हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें