UP में इलाज, जांच के आंकड़ों में अटकलबाजी, CM योगी ने जनता को धोखा दिया: अखिलेश

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Apr 2021, 7:51 PM IST
  • यूपी में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को बयान जारी किया है. अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी सरकार प्रदेश की जनता को धोखा दे रही और आंकड़ों में अटकलबाजी चल रही है.
यूपी में कोरोना संक्रमण को लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बयान जारी किया.

लखनऊ. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को कहा कि भाजपा सरकार लगातार चार सालों से प्रदेश की जनता को धोखा दे रही है. उन्होंने कहा कि इलाज और जांच के आंकड़ों में अटकलेबाजी चल रही है. स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से चरमरा गई हैं. अखिलेश यादव ने मंगलवार को बयान जारी किया है.

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार के कामों से एलर्जी रखने के कारण मुख्यमंत्री कोविड मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ करते रहे. उन्होंने स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्यान नहीं दिया. उन्होंने कहा कि अब जब पानी सिर के उपर बहने लगा है तो हज हाउस सरोजनीनगर, अवध शिल्प ग्राम और कैंसर अस्पताल को कोविड सेंटर बनाया जा रहा है. इन निर्माण समाजवादी सरकार में हुआ था.

यूपी में प्राइमरी स्कूलों के टीचर करेंगे वर्क फ्रॉम होम, योगी सरकार का आदेश

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार और इसके मुख्यमंत्री की प्राथमिकता सत्ता पाना और चुनाव जीतना भर रह गया है. भले ही उनकी रैलियों और सभाओं से कोरोना का विस्तार होता रहे. लोगों की जान की कीमत की भी उन्हें परवाह नहीं है. सपा अध्यक्ष ने कहा कि हद तो तब हो गई जब प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री को यूपी में कोरेाना महामारी पर विजय हासिल करने के के लिए बधाई दे डाला. बधाई संदेशों की स्याही सूखी भी नहीं थी कि यूपी में कोरोना की दूसरी लहर फैल गई.

1 मई से 18 साल के ऊपर के लोगों को लगेगी कोरोना वैक्सीन, रजिस्ट्रेशन के लिए करें ये काम

सपा अध्यक्ष ने कहा, इन दिनों कोरोना के कहर ने जिंदगी को ऐसा चपेट लिया है कि लोगों को न रोते बन रहा है, न हंसते. हर तरफ अफरा-तफरी का आलम है. प्रशासनिक अधिकारियों में तालमेल न होने से हालात बिगड़ते जा रहे हैं. स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से चरमरा गई हैं. अखिलेश यादव ने कहा कि ये बदहाली सिर्फ शहरों में ही नहीं है बल्कि गांवों में भी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें