सपा MLA राकेश प्रताप सिंह ने दिया इस्तीफा, गांधी प्रतिमा के सामने अनशन पर बैठे

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 7:37 AM IST
  • सपा विधायक ने कहा कि हमने कुछ मांगें उठाई थी और सरकार ने पूरा करने का सदन में आश्वासन दिया था, लेकिन सरकार ने पूरा नहीं किया. सरकार झूठ बोलती है, इसलिए सदन में बैठने का कोई औचित्य नहीं है.
विधायक राकेश प्रताप सिंह ने विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित को अपना त्यागपत्र सौंपा.

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के विधायक राकेश सिंह ने अपनी सदस्यता इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने के बाद सपा विधायक लखनऊ में गांधी प्रतिमा के पास धरने पर बैठ गए. बताते चलें कि राकेश सिंह अमेठी के गौरीगंज इलाके से सपा के विधायक हैं. उन्होंने अपने इस्तीफे का कारण दो जर्जर सड़कों का पुननिर्माण नहीं होना बताया है. सपा विधायक राकेश सिंह रविवार सुबह विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के आवास पर जाकर उनसे मिले और अपना इस्तीफा सौंपा. विधानसबा अध्यक्ष ने कहा कि राकेश सिंह गंभीरता से अपने क्षेत्र की जनता की समस्याएं सदन और उसके बाद उठाते रहे हैं.

विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि जहां तक इस्तीफे को स्वीकार करने की बात है तो वह विधानसभा नियमावली के हिसाब से फैसला लेंगे. राकेश सिंह का कहना है कि उनके क्षेत्र में कादूनाला थौरी मार्ग व मुसापिरखाना-पारा मार्ग भी अति जर्जर हालत में है. उन्होंने 31 अक्टूबर 11 बजे सुबह तक इसका काम शुरू नहीं कराने पर इस्तीफा देने का ऐलान किया था. सपा विधायक ने कहा कि हमने कुछ मांगें उठाई थी और सरकार ने पूरा करने का सदन में आश्वासन दिया था, लेकिन सरकार ने पूरा नहीं किया. सरकार झूठ बोलती है, इसलिए सदन में बैठने का कोई औचित्य नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि अधिकारीगण लोकतांत्रिक व्यवस्था को कमजोर करने में लगे हैं, चुनी हुई सरकारों का निर्देश नहीं मानते हैं. समाजवादी पार्टी के विधायक राकेश प्रताप सिंह ने विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित को अपना इस्तीफा सौंपा.

SP प्रमुख ने बीजेपी सरकार पर साधा निशाना, कहा- हमने किया विकास BJP ने बदला केवल नाम

इस बीच सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव विवादों से गिर गए हैं. दरअसल, रविवार को सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने गांधी, पटेल और नेहरू के साथ जिन्ना का नाम जोड़ दिया. इसके बाद उत्तर प्रदेश की सियासत गरमा गई. इस बीच सत्ताधारी बीजेपी ने अखिलेश के इस बयान की तीखी आलोचना की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें